स्वास्थ के नाम पर खिलवाड़, मजदुर बना रहे आपका Health Tonic

रतलाम: एक बड़ा सा कमरा जिसका नज़ारा एक दम किचन जैसा। इधर-उधर सामान बिखरा हुआ। एक गैस चूल्हे पर तपेले में चाशनी जैसा कुछ उबल रहा था। वही पर कुछ मशीनें राखी हुई हैं। यह हेल्थ टॉनिक बनाने का कारखाना है। हैरान करने वाली बात यह है की यहां जो लोग हेल्थ टॉनिक तैयार कर रहे थे वह कोई जानकार या एक्सपर्ट नही थे बल्कि कुछ मजदूर थे। 

साेमवार को पुलिस ने जब धीरज शाह नगर के एक मकान में छापा मारा तो ऐसा ही नजारा देखने को मिला। खाद्य सुरक्षा अधिकारी आर.आर.सोलंकी के मुताबिक रूपसिंह चौहान के पास फूड प्रोडक्ट बनाने का लाइसेंस है। धीरज शाह नगर से ग्लूकोज पावडर और मल्टी विटामिन सिरप (माल्ट) के सेंपल लिए हैं। जांच के लिए राज्य खाद्य प्रयोगशाला भेजे जाएंगे। ड्रग इंस्पेक्टर सारिका अग्रवाल ने बताया फैक्टरी से कैप्सूल के खोखे, दवाएं और खाली कार्टून मिले हैं। एक मशीन मिली है जिससे गोलियां पैकिंग करने की शंका है।

जानकारी के अनुसार फैक्टरी संचालक रूपसिंह का शनिवार को पड़ोसी से विवाद हो गया था। पड़ोसी ने दीनदयाल नगर थाने में सूचना दी कि धीरजशाह नगर स्थित एक मकान में दवाइयां बनाने का काम चल रहा है। जांच के बाद सोमवार को दीनदयाल नगर थाना प्रभारी एम.एल.पुरोहित मौके पर पहुंचे। एसपी अविनाश शर्मा ने एएसपी डॉ. प्रशांत चौबे के साथ खाद्य सुरक्षा निरीक्षक और ड्रग इंस्पेक्टर को कार्रवाई के लिए मौके पर भेजा।

वही फैक्टरी संचालक रूपसिंह चौहान ने पूछताछ में बताया की लाइसेंस कागज नहीं मिलने के कारण गलतफहमी हुई। फैक्टरी में मल्टी विटामिन प्रोडक्ट बनाया जाता है। इसमें विटामिन व फ्लेवर का उपयोग होता है। ड्रग होलसेल व न्यूट्रासिटिकल फूड सप्लीमेंट मेन्युफैक्चरिंग लाइसेंस है। दवा की मार्केटिंग करते हैं और ऑर्डर पर दवा बनाते हैं। ऑर्डर पर फैक्टरी को पैकिंग के लिए दवाओं के रैपर और खोखे देना पड़ते हैं। फैक्टरी में वही रैपर और खोखे मिले हैं।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -