साइबेरिया में पड़ी सदी की सबसे ज्यादा सर्दी, पहली बार -62 डिग्री पहुंचा पारा

मॉस्को : रुस के साइबेरिया में इस सदी की सबसे भयानक सर्दी पड़ रही है. 83 साल में पहली बार आर्कटिक ब्लास्ट की चपेट में यह इलाका आया है. पारा माइनस 62 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है. पूरे इलाके में पारा माइनस 40 डिग्री सेल्सियस से माइनस 62 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया है.इससे पहले ।6 फरवरी 1933 में माइनस 67.2 डिग्री दर्ज किया गया था.

आर्कटिक ब्लास्ट से जगह-जगह हवा में बर्फ जम गई है. इस कारण भयानक सर्दी का असर यह हुआ है कि बाल, आईब्रो और दाढ़ी पर तक पर बर्फ जम गई है. कार और बाइक चोक हो गई हैं.मोबाइल समेत अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बंद हो गए हैं.बता दें कि साइबेरिया इस समय दुनिया में सबसे ठंडा इलाका है.यहां जनवरी में पारा माइनस 60 डिग्री सेल्सियस रहता है.यहाँ सर्दी से बचने के लिए जंगली जानवर रिहायशी इलाकों में आ रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि धरती पर सबसे ठंडा स्थान अंटार्कटिका है. यहां माइनस 89.2 डिग्री सेल्सियस तापमान रहता है. इतने कम तापमान में हडि्डयां तक चटक जाती है. वैसे साइबेरिया आर्कटिक से बहुत नजदीक है. इसलिए यहां आर्कटिक ब्लास्ट का ज्यादा असर होता है. पूरे इलाके में बर्फ की मोटी परत जमा हो जाती हैऔर तापमान बहुत नीचे चला जाता है.

एक समय में भारत हुआ करता था अंटार्कटिका का हिस्सा 

अंटार्कटिका में मिला पांच करोड़ साल...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -