'उसे बलि का बकरा क्यों बनाया..', टीम इंडिया के सिलेक्शन पर भड़के सुनील गावस्कर
'उसे बलि का बकरा क्यों बनाया..', टीम इंडिया के सिलेक्शन पर भड़के सुनील गावस्कर
Share:

नई दिल्ली: वेस्ट इंडीज के खिलाफ दो मुकाबलों की टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान 23 जून (शुक्रवार) को किया गया था. टीम की कमान रोहित शर्मा के ही हाथों में रहेगी. वहीं मध्यम क्रम के बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे को उप-कप्तान बनाया गया है. 16 सदस्यीय टेस्ट टीम में अनुभवी बैट्समैन चेतेश्वर पुजारा को जगह नहीं मिली है.  35 वर्षीय पुजारा को टीम से बाहर रखना, चर्चा का विषय बन गया है. महान बल्लेबाज और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने सिलेक्टर्स के फैसले की आलोचना की है. चेतेश्वर पुजारा को इससे पहले वर्ष 2022 के साउथ अफ्रीका दौरे के बाद भी टेस्ट टीम में नहीं रखा गया था. हालांकि काउंटी चैम्पियनशिप में ससेक्स के लिए बेहतरीन प्रदर्शन के बाद पुजारा फिर से टीम इंडिया में लौट आए थे.

गावस्कर ने टीम सिलेक्शन को लेकर कहा कि, 'पुजारा को क्यों हटा दिया गया है? उन्हें अन्य बल्लेबाजों की विफलता के लिए बलि का बकरा क्यों बनाया गया है. वह भारतीय क्रिकेट के एक वफादार और शांत प्लेयर हैं. फर्क इतना है कि अन्य खिलाड़ियों की तरह मगर उनके लाखों फॉलोअर्स नहीं हैं, जो उनके पक्ष में शोर मचा सकें. यह मेरी समझ से परे है. उन्हें बाहर करने और बाकी को टीम में रखने का क्या मापदंड है? मुझे इस संबंध में नहीं पता क्योंकि आजकल सेलेक्टर की मीडिया से कोई चर्चा नहीं होती है.'  गावस्कर ने आगे कहा कि चेतेश्वर पुजारा को केवल उनकी उम्र के कारण ही भारतीय टेस्ट टीम से बाहर नहीं किया जाना चाहिए. लिटिल मास्टर का मानना है कि पुजारा इकलौते बैट्समैन नहीं थे, जो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (WTC)  फाइनल में बड़ा स्कोर बनाने में नाकाम रहे. उस खिताबी मुकाबले में टीम के शीर्ष- चार बल्लेबाज पहली पारी में सिर्फ 71 रन पर पवेलियन लौट गए थे. पुजारा ने 14 और 27 रन बनाए, मगर वह अकेले नहीं थे, जिन्हें संघर्ष करना पड़ा. अजिंक्य रहाणे मैच में 50 से अधिक रन बनाने वाले एकलौते भारतीय बैट्समैन थे.

गावस्कर ने कहा कि, 'वह काउंटी क्रिकेट खेल रहे हैं, यानी कि उन्होंने बहुत रेड-बॉल क्रिकेट खेला है. आज खिलाड़ी 39-40 वर्ष की आयु तक खेल सकते हैं और जब तक आप रन बना रहे हैं, तब तक खेल सकते हैं. मुझे नहीं लगता कि उम्र कोई कारक होनी चाहिए. अजिंक्य रहाणे के अलावा भारत की बैटिंग पूरी तरह से फ्लॉप रही. पुजारा पर ही ठीकरा क्यों फोड़ा गया, यह चयनकर्ताओं को बताना होगा.'  बता दें कि, बीते 28 टेस्ट में चेतेश्वर पुजारा का औसत सिर्फ 29.69 का रहा है. इस दौरान उन्होंने 1 शतक और 11 अर्धशतक जड़ा है. क्रिकेट विश्लेषकों का का मानना ​​है कि टेस्ट टीम में पहली दफा शामिल किए गए यशस्वी जयसवाल विंडीज के खिलाफ नंबर-3 पोजीशन पर बल्लेबाज़ी कर सकते हैं.

टेस्ट टीम: रोहित शर्मा (कप्तान), शुभमन गिल, ऋतुराज गायकवाड़, विराट कोहली, यशस्वी जयसवाल, अजिंक्य रहाणे (उप-कप्तान), केएस भरत (विकेटकीपर), ईशान किशन (विकेटकीपर), आर. अश्विन, रवींद्र जडेजा, शार्दुल ठाकुर, अक्षर पटेल , मो. सिराज, मुकेश कुमार, जयदेव उनादकट, नवदीप सैनी.

'धोनी की कप्तानी में..', अश्विन ने नाम लिए बगैर रोहित शर्मा को दे डाली नसीहत

वेस्टइंडीज दौरे के लिए हुआ टीम इंडिया का ऐलान, ODI के साथ टेस्ट टीम में भी हुआ बड़ा बदलाव

टीम इंडिया के चीफ सिलेक्टर बनेंगे वीरेंद्र सहवाग ? चेतन शर्मा के इस्तीफे के बाद से खाली है पद

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -