ज्यादा ज़रूरी है सोशल मीडिया, जब युवाओ से पूछे ये सवाल तो..?

Aug 10 2015 08:38 PM

जब स्वतंत्रता के महायज्ञ में भारत के क्रन्तिकारी अपने रक्त की आहुति दे रहे थे तो यह मेने नही देखा की उन्होंने किस तरह के संघर्षो से भारत को गुलामी से मुक्त करवाया। मेने हमारे बुजुर्गो या पुराने लोगो से आजादी के किस्से सुने थे लेकिन जब मेने एक किताब में स्वतंत्रता की कहानी पढ़ी तो वाकई मेरा दिल उन लोगो की वीरगाथ को जानकर थम गया।

आज हमारे देश की विडंबना यह है की आज का युवा सोशल मीडिया और तकनीक में इतना आश्रित हो चूका है की अभी तक ठीक से उन्हें देश के बारे में पूर्ण जानकारी भी नही पता। चलिए इसी विषय को लेकर आज हम आपको बताते है की जब हमने इस बारे में जानने का प्रयास किया तो जो जानकारी हमें मिली वह चौकाने वाली थी।

- नही पता राष्ट्रिय गान - जब युवाओ से सवाल किया गया कि हमारे देश का राष्ट्रिय गान क्या है ? तो जवाब मिला वंदे मातरम।

- जब युवाओ से पूछा गया की राष्ट्रीय ध्वज क्या है तो उन्हे इस बारे मे भी कोई जानकारी नही थी ओर न ही उन्हे राष्ट्रपिता का नाम मालूम। हमारा देश कब आजाद हुआ यह तक नही मालूम। लेकिन उन्हे जब सोशल मीडिया के बारे मे पूछा गया तो उसके निर्माता से लेकर फीचर्स तक जानकारी थी। इससे एक ही बात सामने आती है सोशल मीडिया ने युवाओ  की सोचने समझने की शक्ति को खत्म कर दिया है।