सैटेलाइट फोन क्या है, यह इतना महंगा क्यों है?
सैटेलाइट फोन क्या है, यह इतना महंगा क्यों है?
Share:

सैटेलाइट फोन, जिसे सैट फोन के रूप में भी जाना जाता है, संचार उपकरण हैं जो सिग्नल संचारित करने के लिए पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले उपग्रहों पर निर्भर करते हैं, जिससे उन क्षेत्रों में संचार सक्षम होता है जहां पारंपरिक सेलुलर नेटवर्क अनुपलब्ध हैं। ये फ़ोन स्थलीय बुनियादी ढांचे की आवश्यकता को दरकिनार करते हुए, सीधे उपग्रहों से जुड़कर संचालित होते हैं।

सैटेलाइट फ़ोन कैसे काम करते हैं

सैटेलाइट फोन पृथ्वी के चारों ओर विभिन्न कक्षाओं में स्थित उपग्रहों के नेटवर्क का उपयोग करते हैं। जब कोई उपयोगकर्ता कॉल करता है या संदेश भेजता है, तो सिग्नल सैटेलाइट फोन से निकटतम उपग्रह तक प्रेषित होता है, जो फिर इसे ग्राउंड स्टेशन पर रिले करता है। वहां से, संचार को अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए स्थलीय नेटवर्क या किसी अन्य उपग्रह के माध्यम से भेजा जाता है।

सैटेलाइट फोन की मुख्य विशेषताएं

  1. वैश्विक कवरेज: पारंपरिक सेल फोन के विपरीत, सैटेलाइट फोन दूरदराज या अलग-थलग क्षेत्रों, जैसे रेगिस्तान, महासागर, पहाड़ और ध्रुवीय क्षेत्रों में कवरेज प्रदान कर सकते हैं, जहां स्थलीय नेटवर्क नहीं पहुंच सकते हैं।

  2. विश्वसनीयता: सैटेलाइट फोन आपदाग्रस्त क्षेत्रों में या आपात स्थिति के दौरान भी विश्वसनीय संचार प्रदान करते हैं जब स्थलीय नेटवर्क बाधित हो जाते हैं।

  3. स्थायित्व: कई सैटेलाइट फोन अत्यधिक तापमान, पानी और कठोर हैंडलिंग सहित कठोर पर्यावरणीय परिस्थितियों का सामना करने के लिए बनाए जाते हैं, जो उन्हें ऊबड़-खाबड़ वातावरण में उपयोग के लिए उपयुक्त बनाते हैं।

  4. आपातकालीन सेवाएँ: सैटेलाइट फोन अक्सर जीपीएस ट्रैकिंग और आपातकालीन एसओएस बटन जैसी सुविधाओं से सुसज्जित होते हैं, जो उपयोगकर्ताओं को दूरस्थ स्थानों में मदद बुलाने में सक्षम बनाते हैं।

सैटेलाइट फोन की कीमत में योगदान देने वाले कारक

अपने लाभों के बावजूद, सैटेलाइट फोन आम तौर पर पारंपरिक सेल फोन की तुलना में अधिक महंगे होते हैं। कई कारक उनकी उच्च लागत में योगदान करते हैं:

1. प्रौद्योगिकी: सैटेलाइट फोन प्रौद्योगिकी में उपग्रह संचार प्रणालियों सहित परिष्कृत हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर शामिल हैं, जिन्हें विकसित करना, बनाए रखना और संचालित करना महंगा है।

2. सैटेलाइट नेटवर्क इन्फ्रास्ट्रक्चर: उपग्रहों, ग्राउंड स्टेशनों और संबंधित बुनियादी ढांचे के नेटवर्क का निर्माण और रखरखाव करने के लिए अनुसंधान, विकास, प्रक्षेपण और रखरखाव में पर्याप्त निवेश की आवश्यकता होती है।

3. सीमित बाजार मांग: पारंपरिक सेल फोन की तुलना में सैटेलाइट फोन का बाजार अपेक्षाकृत छोटा है, जिसके परिणामस्वरूप प्रौद्योगिकी और बुनियादी ढांचे में निवेश की भरपाई के लिए प्रति यूनिट लागत अधिक होती है।

4. विशिष्ट घटक: सैटेलाइट फोन के लिए विशेष घटकों की आवश्यकता होती है, जैसे सैटेलाइट ट्रांसीवर और एंटेना, जिनका निर्माण पारंपरिक सेल फोन में उपयोग किए जाने वाले घटकों की तुलना में अधिक महंगा होता है।

5. नियामक अनुपालन: सैटेलाइट संचार सेवाएं सरकारों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों द्वारा लगाए गए नियमों और लाइसेंस शुल्क के अधीन हैं, जिससे सैटेलाइट फोन सेवाएं प्रदान करने की कुल लागत बढ़ जाती है। जबकि सैटेलाइट फोन दूरदराज और दुर्गम क्षेत्रों में अद्वितीय कनेक्टिविटी प्रदान करते हैं, उनकी उच्च लागत मुख्य रूप से उन्नत प्रौद्योगिकी, बुनियादी ढांचे, सीमित बाजार मांग, विशेष घटकों और उपग्रह संचार सेवाओं से जुड़ी नियामक आवश्यकताओं के लिए जिम्मेदार है। खर्च के बावजूद, सैटेलाइट फोन उन व्यक्तियों और संगठनों के लिए अपरिहार्य उपकरण बने हुए हैं जो दूरदराज के क्षेत्रों में काम करते हैं या यात्रा करते हैं जहां पारंपरिक संचार विधियां अविश्वसनीय या अनुपलब्ध हैं।

बीमा या रखरखाव का झंझट नहीं, बिना खरीदे ही चला लें लाखों की कार!

ऑडी ने पेश की शानदार फीचर्स वाली दो नई कारें, देखें कीमत

एमजी मोटर्स ने लॉन्च की स्पेशल एडिशन कार, ब्रिटिश रेसिंग ग्रीन मॉडल से उठा खुलासा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -