अजीब परम्पराएं : गुडलुक के लिए फेंका जाता है बच्चों को छत से

वैसे तो दुनिया में धर्म, जाति और समुदाय सबके अलग अलग रीती रिवाज होते हैं. कई सारे आपने सुने भी होंगे और कई सारे आप जानते भी होंगे. उसी तरह आज हम दुनिया के कुछ और भी रीती रिवाज के बारे में बताने वाले हैं जो कि बहुत ही क्रूर है. ये इतने क्रूर होते हैं कि जानकर ही हमारे रोंगटे खड़े हो जायेंगे. तो चलिए जानिए उनके बारे में जो अजीबोगरीब प्रथा के लिए जाने जाते हैं.

* ऐसा ही एक रिवाज है महाराष्ट्र के शोलापुर में भी ,जहाँ बाबा उमर दरगाह और कर्नाटक श्री संतेश्वर मंदिर में तो बच्चों को छत से फेंक जाता है. निचे खड़े लोग उन्हें चादर में थाम लेते हैं. ऐसा माना जाता है कि इससे बच्चे का स्वास्थ्य ठीक रहता है.

* उत्तरप्रदेश में वाराणसी और मिर्जापुर के कुछ मंदिरों में 'कराहा पूजन' की अजीब परंपरा है जहाँ नवजात बच्चों को खौलते दूध से नहलाया जाता है वो उसके पिता द्वारा. बच्चे के आबाद पिता भी खौलते हुए दूध से नहाता है.

* ऐसी ही एक परंपरा है मध्य प्रदेश के उज्जैन के कुछ गांव की जहाँ लगो ज़मीन पर लेट कर अपने ऊपर से गायों को गुज़ारते हैं. और ये रीत दिवाली के अगले दिन किया जाता है.

* मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में भी कुछ अजीब से परमपरा है ,यहाँ हनुमान जयंती के अवसर पर लोग अपने शरीर में छेद करवाते हैं. कहा जाता है कि ऐसा करने से चेचक जैसी बीमारी से बच जाते हैं.

 

इस लड़की को खूबसूरत होना पड़ गया महंगा

2017 की सबसे ज्यादा शॉकिंग फोटोज

इस महिला के मोटापे को देखने के लिए लगता है टिकट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -