एंग्जायटी कंट्रोल करेंगे ये 4 विटामिन, एक्सपर्ट ने दिया सुझाव
एंग्जायटी कंट्रोल करेंगे ये 4 विटामिन, एक्सपर्ट ने दिया सुझाव
Share:

आज की भागदौड़ भरी जीवनशैली में लोग तेजी से तनाव और चिंता का सामना कर रहे हैं, जिसका असर न केवल उनकी निजी बल्कि पेशेवर जिंदगी पर भी पड़ रहा है। रोज़गार के कारण लगातार तनाव में रहने से बेचैनी हो सकती है, जिससे काम पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो जाता है। अगर समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो यह समस्या बढ़ सकती है। हालाँकि, क्या आप जानते हैं कि अपने आहार में कुछ विटामिनों को शामिल करने से रोजगार संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद मिल सकती है? स्वास्थ्य विशेषज्ञों का सुझाव है कि कुछ विटामिनों की कमी रोजगार-संबंधी तनाव का एक महत्वपूर्ण कारक हो सकती है।

मैग्नीशियम:
मैग्नीशियम की कमी संभावित रूप से तनाव के स्तर को बढ़ा सकती है। विशेषज्ञ बताते हैं कि मैग्नीशियम हमारे शरीर में कोर्टिसोल को नियंत्रित करता है, जो एक तनाव हार्मोन है। मैग्नीशियम की कमी से तनाव बढ़ सकता है।

प्रोबायोटिक्स:
विशेषज्ञों के मुताबिक, हमारे आहार में प्रोबायोटिक्स का होना जरूरी है। ये लाभकारी बैक्टीरिया हमारी आंत में अच्छे बैक्टीरिया की उपस्थिति को बढ़ाते हैं। ये अच्छे बैक्टीरिया न्यूरोट्रांसमीटर में हैप्पी हार्मोन का उत्पादन करते हैं। आहार में प्रोबायोटिक्स शामिल करने से रोजगार संबंधी तनाव को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

विटामिन बी:
मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए, विटामिन बी का पर्याप्त स्तर बनाए रखना महत्वपूर्ण है। यह विटामिन तनाव और चिंता को नियंत्रित करने में सहायता करता है। डेयरी उत्पाद, सोयाबीन, अंडे, हरी सब्जियाँ और फल विटामिन बी के स्रोत हैं जिन्हें आहार में शामिल किया जा सकता है।

एल-थेनाइन:
यह यौगिक हमारे मस्तिष्क में रसायनों को प्रभावित करता है। मानसिक कार्यप्रणाली में सुधार के लिए एल-थेनाइन का उपयोग फायदेमंद है। यह रोजगार संबंधी तनाव को नियंत्रित करने और चिंता को कम करने में मदद करता है।

इन बातों का भी रखें ध्यान:
अत्यधिक कैफीन और ग्लूटेन का सेवन भी तनाव के स्तर को बढ़ा सकता है। इसलिए, कॉफी और चाय का सेवन सीमित करने की सलाह दी जाती है। इसके अतिरिक्त, प्रतिदिन व्यायाम करने की आदत विकसित करना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, अत्यधिक दबाव में काम करने से बचें।

निष्कर्षतः, जबकि रोजगार संबंधी तनाव आज के समाज में एक आम मुद्दा है, इसे आहार में संशोधन के माध्यम से प्रभावी ढंग से प्रबंधित किया जा सकता है। आहार में मैग्नीशियम, प्रोबायोटिक्स, विटामिन बी और एल-थेनाइन शामिल करने से तनाव और चिंता को कम करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा, कैफीन और ग्लूटेन का सेवन कम करना, नियमित व्यायाम करना और काम पर अत्यधिक दबाव से बचना एक संतुलित और तनाव मुक्त जीवन शैली प्राप्त करने की दिशा में आवश्यक कदम हैं।

हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीजों को गलती से भी नहीं करना चाहिए इन चीजों का सेवन

गर्मियों में प्याज का खूब सेवन करना चाहिए, इसके लिए बनाएं टेस्टी प्याज की सब्जी

अगर बच्चे का गर्भधारण नहीं हुआ है तो डॉक्टर फॉलिकल टेस्ट की सलाह देते हैं, जानें क्या है और होता है कितना खर्च

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -