'पूरी दुनिया आतंकवाद से ग्रसित, लेकिन अफ़सोस हम अब तक उसे परिभाषित नहीं कर सके..', इजराइल-हमास युद्ध के बीच बोले पीएम मोदी
'पूरी दुनिया आतंकवाद से ग्रसित, लेकिन अफ़सोस हम अब तक उसे परिभाषित नहीं कर सके..', इजराइल-हमास युद्ध के बीच बोले पीएम मोदी
Share:

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (13 अक्टूबर) को 2001 में भारतीय संसद पर हुए हमले को याद किया और कहा कि दुनिया आतंकवाद से प्रभावित थी, लेकिन फिर भी एक समान परिभाषा पर सहमति नहीं बनी। पीएम मोदी ने कहा कि, 'आतंकवाद की परिभाषा पर आम सहमति नहीं बन पाना दुखद है, मानवता के दुश्मन इस दृष्टिकोण का फायदा उठा रहे हैं। दुनिया भर की संसदों को इस बारे में सोचना होगा कि हमें आतंकवाद से निपटने के लिए मिलकर कैसे काम करना चाहिए।'

दिल्ली में नौवें G20 संसदीय अध्यक्ष शिखर सम्मेलन (पी20) के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, ''(2001 में) आतंकवादी जानते थे कि हमारी संसद चल रही है और वे इसे खत्म करना चाहते थे।'' प्रधानमंत्री ने साथ मिलकर आगे बढ़ने की जरूरत पर भी जोर दिया और कहा, ''यह समय सबके विकास का है।'' पीएम मोदी ने कहा कि, ''भारत कई दशकों से सीमा पार आतंकवाद का सामना कर रहा है और आतंकवादियों ने हजारों निर्दोष लोगों की हत्या की है।'' उन्होंने कहा कि, ''दुनिया को अब एहसास हो रहा है कि आतंकवाद कितनी बड़ी चुनौती है और यह मानवता के खिलाफ है।''

इज़राइल और आतंकी संगठन हमास में जारी युद्ध के स्पष्ट संदर्भ में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने चेतावनी दी कि, "आज दुनिया जिन संघर्षों और टकरावों का सामना कर रही है, उससे किसी को फायदा नहीं होता है। एक विभाजित दुनिया मानवता के सामने चुनौतियों का समाधान नहीं दे सकती है। हमें वैश्विक विश्वास के रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करना होगा और मानव-केंद्रित दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ना होगा।" पीएम मोदी ने कहा कि, ''हमें दुनिया को एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य की भावना से देखना होगा।'' उन्होंने कहा, "वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए लोगों की भागीदारी सबसे अच्छा माध्यम है।" 

चुनाव, संसदीय कार्यप्रणाली पर क्या बोले पीएम मोदी?

कार्यक्रम में बोलते हुए, पीएम मोदी ने संसदीय प्रथाओं का भी जिक्र किया और कहा, "यह दुनिया भर की विभिन्न संसदीय प्रथाओं का एक अनूठा संगम है। देश की संसदीय प्रथाएं विकसित और मजबूत हुई हैं।" प्रधान मंत्री ने कहा कि, "G20 की अध्यक्षता ने भारत में पूरे साल उत्सव सुनिश्चित किया, चंद्रमा पर भारत के उतरने से उत्सव में चार चांद लग गए।" कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी ने चुनावों के बारे में बोलते हुए कहा कि, "भारत में अब तक 17 आम चुनाव और 300 से अधिक राज्य विधानसभा चुनाव हुए हैं। 2019 के आम चुनाव में लोगों ने मेरी पार्टी को लगातार दूसरी बार विजयी बनाया। यह दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव था।"

पीएम मोदी ने कहा कि, "EVM के इस्तेमाल से चुनाव प्रक्रिया में पारदर्शिता और दक्षता बढ़ी है, क्योंकि अब वोटों की गिनती के कुछ घंटों के भीतर नतीजे घोषित हो जाते हैं।" बता दें कि, शिखर सम्मेलन की मेजबानी भारत की G20 अध्यक्षता के व्यापक ढांचे के तहत संसद द्वारा की गई थी। इस कार्यक्रम में G20 सदस्यों और आमंत्रित देशों की संसदों के अध्यक्षों ने भाग लिया। पिछले महीने नई दिल्ली G20 नेताओं के शिखर सम्मेलन में अफ्रीकी संघ के जी20 का सदस्य बनने के बाद पैन-अफ्रीकी संसद ने भी पहली बार P20 शिखर सम्मेलन में भाग लिया। इस P20 शिखर सम्मेलन के दौरान विषयगत सत्र चार विषयों पर केंद्रित थे - सार्वजनिक डिजिटल प्लेटफार्मों के माध्यम से लोगों के जीवन में परिवर्तन, महिलाओं के नेतृत्व में विकास, SDG में तेजी लाना और टिकाऊ ऊर्जा संक्रमण।

40 इजराइली बच्चों के हत्यारों का भारत में समर्थन ? एकजुटता मार्च निकालेगा जमात-ए-इस्लामी, हिजाब विवाद में भी भड़का चुका है हिंसा !

'बांग्लादेश से लाओ, भारत में बसाओ..', इस काम के लिए आदिल, नजीबुल और अबू को मिले थे 20 करोड़, बनवाते थे भारत के फर्जी दस्तावेज़

'आतंकवाद की तो निंदा कर देते..', फिलिस्तीन के पक्ष में 'कांग्रेस' ने पारित किया प्रस्ताव, CM सरमा बोले- छोटे बच्चों की हत्या पर चुप्पी क्यों ?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -