ऐसा होगा वर्ष 2016-17 का रेल बजट

Feb 24 2016 11:32 AM
ऐसा होगा वर्ष  2016-17 का रेल बजट

नई दिल्ली: गुरुवार को रेल मंत्री सुरेश प्रभु रेल बजट पेश करने वाले हैं. आशा है की इस बार रेल सेक्टर में बड़े पैमाने पर क्षमता विस्तार पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा. इसके लिए खर्च बढ़ाते हुए करीब 1.25 लाख करोड़ रुपए किया जाएगा. इसमें से एक बड़ा हिस्सा रेल बजट के इतर स्रोतों से एकत्रित किया जाएगा.

रेल विभाग सूत्रों के हवाले से सुरक्षा व्यवस्था की बहाली, इलेक्ट्रिफिकेशन, यार्ड्स को दोगुना करने और उनके आधुनिकीकरण के लिए अच्छी-खासी रकम की व्यवस्था की जाएगी. एक जानकारी के मुताबिक रेलवे केवल उन्हीं प्रोजेक्ट पर काम शुरू करेगा, जो आर्थिक तौर पर व्यवहारिक हों. जो प्रोजेक्ट आर्थिक तौर पर व्यवहारिक नहीं हैं, लेकिन अर्थव्यवस्था और जनता के लिए जरूरी हैं, उनका काम राज्य सरकारों के साथ संयुक्त उपक्रमों के जरिए पूरा किया जाएगा.

अंदाज़ा लगाया जा रहा है की रेलवे की माली हालत दुरुस्त करने के लिए इस बार सुरेश प्रभु आय बढ़ाने पर जोर दे सकते हैं. बजट में आमदनी के मुकाबले खर्च यानी ऑपरेटिंग रेश्यो अगले कारोबारी साल के लिए 90 प्रतिशत तक रखने की घोषणा की जा सकती है. जानकारी के अनुसार रेल बजट में साल 2016-17 के लिए 90% ऑपरेटिंग रेश्यो का लक्ष्य रखा जा सकता है, जबकि 2015-16 में 92 फीसद ऑपरेटिंग रेश्यो था. 90 फीसद ऑपरेटिंग रेश्यो का मतलब 100 रुपए की आय में से 90 रुपए खर्च होना है.

बजट में सेवाकर 16-18 प्रतिशत करने का प्रस्ताव ला सकते हैं वित्त मंत्री

बजट में रेल किराए की छूट के लिए आधार हो सकता है अनिवार्य

पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज़ ड्यूटी में कटौती से सस्ता होगा ईंधन

आगामी बजट में खत्म हो सकती है चीनी की सब्सिडी

आम बजट में बढ़ सकता है सेवा कर का बोझ