Share:
प्यार का फल
प्यार का फल

राजा संपत सिंह के मन में कई दिनों से एक सवाल उमड़-घुमड़ रहा था। आखिर एक दिन उन्होंने अपने मंत्री से पूछ ही लिया। दीवान जी, मैं बचपन से देख रहा हूँ कि हमारे राज्य में कुत्ते बहुत पैदा होते हैं। एक कुतिया एक बार में सात-आठ बच्चों को जन्म दे देती है। भेड़ें इससे कम बच्चों को जन्म देती हैं। फिर भी भेड़ों के तो झुंड दिखाई देते हैं, परंतु कुत्ते दो-चार ही दिखाई देते हैं। इसका क्या कारण है। मंत्री बहुत समझदार था। उसने कहा, महाराज! इस सवाल का उत्तर मैं आपको कल दूँगा। उसी दिन शाम को मंत्री राजा को अपने साथ लेकर एक स्टोर में गया। वहाँ उसने राजा के सामने एक कोठे में बीस भेड़ें बंद करवा दी। भेड़ों के बीच में चारे का एक टोकरा रखवा कर कोठा बंद करवा दिया। ऐसे ही उसने एक दूसरे कोठे में बीस कुत्ते बंद करवा दिए। कुत्तो के बीच रोटियों से भरी एक टोकरी रखवा दी।

अगली सवेरे मंत्री राजा को लेकर उन कोठों की ओर गया। उसने पहले कुत्तो वाला कोठा खुलवाया। राजा ने देखा किस तरह कुत्ते आपस में लड़लड़कर ज़ख़्मी हुए पड़े थे। टोकरी की रोटियां जमीन पर बिखरी पड़ी थीं। कोई भी कुत्ता एक भी रोटी नहीं खा सका था। फिर मंत्री ने भेड़ों वाला कोठा खुलवाया। राजा ने देखा, सभी भेड़ें एक दूसरी के गले लगी बड़े आराम से सो रहीं थीं। चारे की टोकरी बिल्कुल खाली पड़ी थी।

तब मंत्री ने राजा से कहा महाराज! आपने देखा कि कुत्ते आपस में लड़लड़कर ज़ख़्मी हो गये। वे एक भी रोटी नहीं खा सके, परंतु भेड़ों ने बहुत प्यार से चारा खाया और एक-दूसरी के गले लगकर सो गईं। यही कारण है कि भेड़ों की संख्या बढ़ती जाती है और वे एक साथ रह सकती हैं, लेकिन कुत्ते एक-दूसरे को सहन नहीं कर पाते। जिस बिरादरी में आपस में इतनी घृणा हो, वह कैसे तरक्की कर सकती है। राजा को अपने सवाल का उत्तर मिल गया था।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -