एमरजेंसी में -78 डिग्री सेल्सियस में कराई गई प्लेन की लैंडिंग
एमरजेंसी में -78 डिग्री सेल्सियस में कराई गई प्लेन की लैंडिंग
Share:

साउथ पोल: क्या आप सोच सकते है कि माइनस-78 डिग्री सेल्सियस में कोई प्लेन की लैंडिंग के बारे में सोच सकता है. लेकिन एक वर्कर की जान बचाने के लिए साउथ पोल में विमान को लैंड कराया गया. फरवरी से अक्टूबर के बीच प्लेन की लैंडिंग कराना बेहद खतरनाक होता है, क्योंकि मौसम बेहद खराब होता है।

बर्फ और अंधेरे से ढंके अंटार्कटिक पर स्थित एमंडसन स्कॉट रिसर्च स्टेशन पर पहुंचने के लिए प्लेन को 10 घंटे उड़ान भरनी पड़ी. इसके लिए दो प्लेनों का इंतजाम किया गया. दोनों प्लेन ब्रिटेन के रोथेरा रिसर्च स्टेशन पहुंची. इसके बाद एक को एमंडसन स्कॉच रिसर्च भेजा गया।

दूसरे प्लेन को सर्च और रेस्क्यू के लिए रोथेरा रिसर्च स्टेशन पर ही रोका गया. नेशनल साइंस फाउंडेशन के लिए पोलर प्रोग्राम के डायरेक्टर केली फॉकनर ने बताया कि एक वर्कर को मेडिकल ट्रीटमेंट की सख्त जरूरत थी. स्टेशन पर ट्रीटमेंट न मिलने की वजह से उन्हें प्लेन से निकालने की तैयारी की गई।

इससे पहले 1999 में और फिर 2009 में ऐसा किया गया था. जब एक लेडी डॉक्टर को कैंसर हुआ था औऱ दूसरी बार एक मैनेजर को ब्रेन स्ट्रोक आने पर।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -