मौत का खौफ : पुलिस के पहरा देने के बाद भी ग्रामीण नहीं निकलते घरों से बाहर

चंडीगढ़ /सोनीपत :सोनीपत जिले के करेवड़ा गांव में एक बदमाश की दहशत के कारण ग्रामीणों का घर से निकलना मुश्किल हो चुका है. पिछले 15 दिनों में उसने गांव के तीन लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी. उसके हमले से घायल दो लोग गंभीर है और मौत से जंग लड़ रहे हैं. इन हत्याओं के बाद ग्रामीणों में दहशत इस कदर बैठ गई कि उन्होंने घर से निकलना बंद कर दिया है. पुलिस के पहले के बावजूद भी गांव में दहशत फैली हुई है.

आपको बता दे कि करेवड़ा गांव में संजय नाम के शख्स ने सरपंच पद के लिए चुनाव लड़ा था. संजय का भाई अजय उर्फ कन्नू आपराधिक प्रवृत्ति का है. कन्नू ग्रामीणों को डराकर चुनाव जीतना चाहता था, लेकिन किसी ने उसके भाई के पक्ष में वोट नहीं डाले. सरपंच का चुनाव हारने के बाद एक रोड एक्सीडेंट में बदमाश कन्नू के भाई और बाप की मौत हो गई. इसके बाद से ही बदमाश कन्नू ने ग्रामीणों को मौत के घात उतरना शुरू कर दिया.

सबसे पहले कन्नू ने सरपंच चुनाव जितने वाले शख्स को गोली मारकर घायल कर दिया. उसके बाद 9 मई को जाहरी गांव में वीरेंदर और सुनील नाम के दोस्तों को गोलियों से भून दिया . जिसमें वीरेंद्र की मौत हो गई और सुनील अभी भी जिंदगी और मौत के बिच झूल रहा है. उसके बाद कन्नू ने 12 मई को जगबीर और उसके बेटे अनिल को गोली मारकर मौत कि नींद सुला दिया. मृतक जगबीर का एक बेटा सुशील छिक्कारा आर्मी में मेजर है. उसने पिता और भाई की हत्यारे की जल्द गिरफ्तारी की मांग की है.

इन हत्याओं के बाद जिले की पुलिस भी बेबस दिखाई दे रही है. पुलिस के मुताबिक आरोपी की तलाश के लिए 5 लाख के इनाम का ऐलान किया गया है . पुलिस की 10 टीमें आरोपी को चप्पे चप्पे पर तलाश कर रही है. साथ ही गांव में मुनादी करवा दी गई है कि बिना सुरक्षा के कोई भी ग्रामीण गांव से बाहर न जाए. पुलिस की कड़ी सुरक्षा के बाद भी करेवड़ा गांव में दहशत है.

Most Popular

- Sponsored Advert -