Share:
अब फ्री में कम होगा डायबिटीज का खतरा, वैज्ञानिकों ने किया खुलासा
अब फ्री में कम होगा डायबिटीज का खतरा, वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

मधुमेह एक दीर्घकालिक स्वास्थ्य स्थिति है जो महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है कि आपका शरीर भोजन को ऊर्जा में कैसे परिवर्तित करता है। मधुमेह के दो मुख्य प्रकार हैं: टाइप 1 और टाइप 2, टाइप 2 अधिक प्रचलित है। टाइप 2 मधुमेह में, शरीर इंसुलिन का प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए संघर्ष करता है, जिससे रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है।

मधुमेह को समझना:
जब आप भोजन का सेवन करते हैं, तो आपका शरीर इसका अधिकांश भाग ग्लूकोज (चीनी) में तोड़ देता है और इसे आपके रक्तप्रवाह में छोड़ देता है। रक्त शर्करा का बढ़ता स्तर अग्न्याशय को इंसुलिन जारी करने का संकेत देता है, जो आपके शरीर की कोशिकाओं को रक्त शर्करा को ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करता है। मधुमेह वाले व्यक्तियों में, या तो अपर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन होता है, या शरीर इसका ठीक से उपयोग नहीं करता है। इसके परिणामस्वरूप रक्तप्रवाह में अतिरिक्त शर्करा हो जाती है, जो समय के साथ हृदय रोग, दृष्टि समस्याओं और गुर्दे की बीमारी जैसी विभिन्न गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं में योगदान देती है।

हालिया निष्कर्ष:
लैंसेट डायबिटीज एंड एंडोक्रिनोलॉजी जर्नल में हाल ही में प्रकाशित एक समीक्षा में टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम करने में तेज चलने के संभावित लाभों पर प्रकाश डाला गया है। समीक्षा में 11 वर्षों के शोध का विश्लेषण किया गया, जिससे पता चला कि जिन व्यक्तियों ने 3 किलोमीटर प्रति घंटे (1.86 मील प्रति घंटे) से अधिक चलने की गति बनाए रखी, उनमें टाइप 2 मधुमेह विकसित होने का जोखिम कम था।

चलने की गति का प्रभाव:
समीक्षा के अनुसार, पैदल चलने की गति को 1 किलोमीटर प्रति घंटा तक बढ़ाने से मधुमेह का खतरा संभावित रूप से 9% तक कम हो सकता है। इसके अलावा, यदि गति 6 किलोमीटर प्रति घंटे (3.7 मील प्रति घंटे) से अधिक हो जाती है, तो जोखिम 39% तक कम हो सकता है। ऐसी गति से चलने की अनुशंसा की जाती है जिससे व्यक्ति आराम से गतिविधि जारी रख सकें।

इंपीरियल कॉलेज लंदन से अंतर्दृष्टि:
इंपीरियल कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने पिछले 11 वर्षों के दस शोध अध्ययनों की जांच करते हुए इस विचार का समर्थन किया है कि बढ़ी हुई शारीरिक गतिविधि, विशेष रूप से तेज चलना, महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करता है। यूके में मधुमेह के वरिष्ठ सलाहकार नील गिब्सन ने बढ़ती गतिविधि के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि चल रहे शोध का उद्देश्य टाइप 2 मधुमेह के जोखिम को कम करने के लिए इष्टतम चलने की गति निर्धारित करना है।

विचार और निष्कर्ष:
जबकि तेज़ चलने सहित बढ़ी हुई शारीरिक गतिविधि के लाभ स्पष्ट हैं, व्यक्तियों को अपनी चलने की गति पर ध्यान देने की सलाह दी जाती है। नियमित रूप से चलने से जुड़े स्वास्थ्य लाभों को अधिकतम करने के लिए गति और स्थिरता के बीच संतुलन बनाना महत्वपूर्ण है। ईरान में सेमनान यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज के डॉ. अहमद जावदी का सुझाव है कि चलने की अवधि और तीव्रता दोनों पर ध्यान केंद्रित करने से संभावित रूप से और भी अधिक लाभ मिल सकते हैं।

निष्कर्ष में, चलने की गति और टाइप 2 मधुमेह के खतरे के बीच का संबंध इष्टतम स्वास्थ्य बनाए रखने में शारीरिक गतिविधि के महत्व को रेखांकित करता है। मधुमेह के खतरे को कम करने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए नियमित, तेज चलना एक सरल लेकिन प्रभावी रणनीति के रूप में उभरा है। चल रहे शोध का उद्देश्य विशिष्ट चलने की गति के बारे में हमारी समझ को परिष्कृत करना है जो इस प्रचलित पुरानी स्थिति के खिलाफ सबसे बड़ी सुरक्षा प्रदान करती है।

सबरीमाला के श्रद्धालुओं को शौचालय के पानी में पका हुआ भोजन खिला रहा था अब्दुल, अय्यपा सेवा संघ ने रंगे हाथों पकड़ा, Video

बहुत ज्यादा एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है, जानिए कब ही लेना चाहिए?

पैर हिलाना प्रभाव: पैर हिलाना क्यों माना जाता है अशुभ, परिणाम जानकर हैरान रह जाएंगे आप

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -