शर्तों पर बात करने से नहीं सुधरेंगे संबंध : पाकिस्तान

नई दिल्ली : पाकिस्तान ने कहा कि वार्ता के लिए शर्तें रखने और अपनी पसंद के मुद्दों पर बातचीत करने से पहले भी कुछ हासिल नहीं हुआ और न ही भविष्य में कुछ हासिल होगा क्योंकि अगर भारत पाकिस्तान बातचीत ही नहीं करेंगे तो संबंध कैसे सुधरेंगे. पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि पाकिस्तान संबंधों को मधुर बनाने के लिए PM नवाज शरीफ द्वारा रखे गए 4 सूत्री एजेंडे पर भारत से एक सकारात्मक रूख की उम्मीद करता है लेकिन भारत की प्रतिक्रिया प्रोत्साहित करने वाली नहीं है.

पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री महमूद कसूरी की लिखी पुस्तक ‘नाइदर ए हॉक नोर ए डोव’ के विमोचन के मौके पर बासित ने कहा कि उन्हें लगता है कि यदि दोनों पक्ष वार्ता करते हैं तो माहौल सुधरेगा. इस कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी के अलावा कई अन्य नेता, लेखक और गणमानय नागरिक उपस्थित थे .

कसूरी ने पूर्व PM मनमोहन सिंह की तारीफ करते हुए उन्हें एक ’स्टेट्समैन’ कहा. संबंध सुधारने के तरीकों पर उन्होने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध क्षेत्र का विकल्प क्रिकेट मैच है. इस अवसर पर उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भी सराहना करते हुए कहा कि वाजपेयी ने शांति प्रक्रिया की नींव रखी जो सिंह के कार्यकाल में पुष्पित पल्लिवत हुई.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -