नीतीश के बदले तेवर, आये बीजेपी के समर्थन में

नई दिल्ली - प्राप्त जानकारी के अनुसार ऐसा प्रतीत हो रहा हैं की भाजपा और जदयू के बीच नजदीकियां फिर से  बढ़ती जा रही हैं. राजनीती के गलियारों में इस समय ये मुद्दा जोरो पर गरमाया हुआ हैं. क्योंकि तमाम विपक्षी दलों के विरोध के बीच नीतीश ही एक ऐसे नेता हैं जिन्होंने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले का जमकर समर्थन किया हैं.

गौरतलब हो की राष्ट्रीय परिषद में घोषित की गई दीनदयाल जन्म शताब्दी वर्ष संबंधी समिति में भी नीतीश कुमार को इकलौते मुख्यमंत्री के रूप में जगह दी गई थी. खबर तो ये भी हैं की नीतीश कुमार ने एक नवम्बर को भाजपा के किसी बड़े नेता से भी मुकालात की हैं किन्तु अभी तक इस खबर की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई हैं. 

ज्ञात हो की बिहार में आठ साल तक दोनों दलों की गठबंधन सरकार थी और जदयू काफी समय तक भाजपा का हिस्सा रही है. किन्तु नीतीश नें लोकसभा चुनाव में अपनी सरकार बनाने के लिए अपने विरोधी राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव से हाथ मिला लिया और गठबंधन में सरकार बना ली. किन्तु बाद इन दोनों दलों के रिश्ते में भी खटास आ गयी हैं. 
 

नीतीश बोले यूपी में सिर्फ गठबंधन की..    

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -