Share:
नवरात्रि में हर उम्र की कन्या के पूजन से मिलते हैं अलग-अलग फल
नवरात्रि में हर उम्र की कन्या के पूजन से मिलते हैं अलग-अलग फल

17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्रि शुरू होने जा रही है। ऐसे में आप सभी जानते ही होंगे यह नौ दिनों तक चलने वाला एक खास पर्व है जो इस बार 17 अक्टूबर से शुरू होकर 25 अक्टूबर तक चलने वाला है। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं आखिरी के दिनों में यानी अष्टमी और नवमी पर होने वाले कन्या पूजन में कितने वर्ष की कन्या का पूजन करने से क्या होता है।

* कहा जाता है 2 साल की कन्या को कुमारी और 3 साल की कन्या को त्रिमूर्ति कहा जाता है और इनके पूजन से धन, सुख-समृद्धि, आयु में वृद्धि होती है। इसके अलावा इनके पूजन से परिवार में परेशानियां खत्म हो जाती है।

* कहा जाता है 4 साल की कन्या को कल्याणी कहते है और इनके पूजन से घर में सुख समृद्धि आती है।

* कहा जाता है 5 साल की कन्या को रोहिणी कहते है। जी दरअसल रोहिणी कन्या का पूजन करने से भक्त की सेहत अच्छी रहती है।

* कहते हैं 6 साल की कन्या को कालिका कहा जता है और इनका पूजन करने से यश और गौरव मिलता है और शत्रुओं का नाश होता है।

* कहते हैं 7 साल की कन्या को चण्डिका कहते है और इनके पूजन से घर में संपन्नता आती है।

* कहते हैं आठ साल की कन्या को शाम्भवी कहते है और इनका पूजन करने से दरिद्रता का नाश होता है।

* कहा जाता है 9 साल की कन्या को मां दुर्गा का स्वरूप माना जाता है, और इनके पूजन से कठिन से कठिन कार्य आसानी से हल हो जाता है।

* ऐसी मान्यता है कि 10 साल की कन्या को सुभद्रा कहते है और इस कन्या की पूजा करने से सभी तरह के सुख और वैभव की प्राप्ति होती है।

नवरात्रि: कन्या पूजन के दौरान रखे इन बातों का विशेष ध्यान

नवरात्री के नौ दिनों करे इन 9 मंत्रो का जाप, पूरी होगी हर मनोकामना

वर्चुअल दुर्गा पूजा में शामिल होंगे पीएम मोदी, अमित शाह जाएंगे बंगाल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -