कैलास मानसरोवर की यात्रा के लिए नाथु ला दर्रा खुला

नई दिल्ली : कैलास मानसरोवर जाने वाले यात्रियों के लिए यह खबर राहत देने वाली है कि इस साल करीब 500 तीर्थयात्री नाथु ला दर्रे से जाएंगे. सरकार के प्रयासों और चर्चा के बाद चीन ने यह रास्ता खोल दिया है. गत वर्ष डोकलाम विवाद के बाद चीन ने सिक्किम  स्थित दर्रे से कैलास मानसरोवर की यात्रा को रोक दिया था.

इस बारे में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि चार महीने तक चलने वाली यह कैलास मानसरोवर यात्रा इस वर्ष आठ जून से आरम्भ होगी.इसके लिए स्वराज ने मंगलवार को यात्रा पर जाने वालों का नाम भी कंप्यूटर ड्रॉ से निकाला. चयनित लोगों को ईमेल और एसएमएस से इसकी जानकारी दी जाएगी.बता दें कि 60-60 यात्रियों वाला 18 जत्थे उत्तराखंड के लिपुलेख दर्रे से जाएंगे ,जबकि 50-50 लोगों के 10 जत्थे नाथु ला के रास्ते अपना सफर शुरू करेंगे.लिपुलेख वाला रास्ता अधिक कठिन होने से बुजुर्गो को नाथु ला के रास्ते भेजा जाता है.

उल्लेखनीय है कि नाथु ला दर्रा वाला मार्ग खुलवाने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन के विदेश मंत्री से हुई चर्चा में स्पष्ट कहा था कि जब तक नागरिकों के संबंध मधुर नहीं होंगे तब तक दोनों देश की सरकारों के बीच संबंध नहीं सुधरेंगे. नाथु ला दर्रा के बंद होने से लोगों में कड़वाहट भर गई थी. आखिर चीन ने भारत की बात को मानते हुए नाथु ला दर्रा का रास्ता खोल दिया इस पर विदेश मंत्री ने ख़ुशी जाहिर की.

यह भी देखें

भरोसे और विश्वास से नए रिश्तों की इबारत लिखते भारत-चीन

गलती से अपहरण किये गए भारतीयों की मदद के लिए सुषमा से गुहार

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -