Share:
कोहिनूर के साथ भारत का रुख करेंगी ये ऐतिहासिक सामग्रियाँ
कोहिनूर के साथ भारत का रुख करेंगी ये ऐतिहासिक सामग्रियाँ

लंदन : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रिटेन यात्रा से भारत को बहुत सी उम्मीदें हैं। प्रधानमंत्री मोदी यहां मेक इन इंडिया, डिजीटल इंडिया का जलवा तो बिखेरेंगे ही। बैरिस्टर से महात्मा गांधी का सफर करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को भी याद करेंगे लेकिन सबसे अहम बात यह है कि जिस कोहिनूर हीरे को लेकर कई तरह की दलीलें दी जाती हैं उसे भारत लाए जाने की कवायदें की जा रही हैं। इसके लिए भारत की ओर से भारतीय समूह टिटोज के सहसंस्थापक डेविड डीसूजा कानूनी कार्रवाई में वित्तीय सहायता कर रहे हैं दूसरी ओर उन्होंने ब्रिटेन के अभिभाषकों को उच्च न्यायालय में कार्रवाई के लिए तैयार किया है।

दरअसल कोहिनूर को भारत लाए जाने को लेकर खासी मांग उठने लगी है। दरअसल यह हीरा पहले 720 कैरेट का था मगर अब यह महज 105 कैरेट का रह गया है। इसे ब्रिटेन की महारानी अपने ताज में पहनती हैं। इसकी प्रतिकृति लंदन टाॅवर में रखी गई है। इंडियन लेजर ग्रुप के सह संस्थापक डेविड डिसूजा द्वारा इसकी भारत वापसी के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। कोहिनूर के ही साथ कुछ अन्य ऐतिहासिक सामग्रियों को भी भारत लाए जाने की कवायदें की जा रही हैं।

उल्लेखनीय है कि कोटा के निवासी अभिषेक मलेटी ने सूचना के अधिकार के माध्यम से यह सवाल किया था कि भारत का कोहिनूर हीरा कहां है लेकिन पीएमओ और अन्य मंत्रालयों ने इस पर जानकारी होने से इंकार किया। जिसके बाद लंदन में इस तरह की कवायदें किए जाने की बात सामने आई। कोहिनूर के अलावा लंदन के ब्रिटिश म्यूजि़यम में रखी मैसूर के राजा टीपू सुल्तान की सामग्री और उनकी तलवार भी वापस लाए जाने की कोशिश की जा रही है। टीपू की अंगूठी को वापस लाने का प्रयास भी किया जा रहा है। दरअसल टीपू की मौत के बाद इस अंगूठी को ब्रिटिश फौज लंदन ले गई थी।

सुल्तानगंज के बुद्ध की एक बड़ी मूर्ति भी बर्मिंघम शहर के म्यूजि़यम की शोभा बढ़ा रही है। 1500 वर्ष पुरानी मूर्ति पीतल की बताई जा रही है। बौद्ध धर्म के लोग भी बरमिंघम की यात्रा करते हैं। यही नहीं 2000 वर्ष पुराने संगमरमर की नक्काशियां जो कि बौद्ध स्तूपों से मिलीं उन्हें भी लाने का प्रयास किया जा रहा है। लंदन के ब्रिटिश म्यूजि़यम में भारतीय सैलानियों के दल भी पहुंचे हैं। सरस्वती की प्रतिमा भोज राजा की बताई जा रही है।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -