Film Review : ऐश्वर्या की एक्टिंग नेचुरल नहीं

प्रोड्यूसर और डायरेक्टर संजय गुप्ता की फिल्मों को दर्शको ने पसंद किया है। संजय गुप्ता की फिल्मे 'शूटआउट ऐट लोखंडवाला','आतिश', 'शूटआउट ऐट वडाला' और 'मुसाफिर' दर्शको को काफी पसंद आई है। संजय गुप्ता ने ऐश्वर्या के साथ अभी 'जज्बा' फिल्म बनाई है देखते है यह फिल्म दर्शको ने कितनी पसंद की है। ऐश्वर्या ने पाँच साल बाद इस फिल्म से बॉलीवुड मे फिर से वापसी की है। 

इस फिल्म की कहानी कुछ ऐसी है फिल्म मे ऐश्वर्या ने अनुराधा वर्मा का किरदार निभाया है। कुछ लोग अनुराधा की बेटी का अपहरण कर लेते है। अनुराधा एक वकील रहती है। उसे अपनी बेटी को बचाने के लिये एक अपराधी के खिलाफ केस हारना पड़ता है। इस कहानी की कुछ घटनाओ मे अनुराधा का साथ इरफान खान,शबाना आजमी और जैकी श्रॉफ देते है। अनुराधा के पास सिर्फ चार दिन होते है अपनी बेटी को बचाने के लिये। 

'जज्बा' फिल्म साउथ कोरियन फिल्म 'सेवन डेज' की हिन्दी रीमेक फिल्म है। इस फिल्म की कहानी तो बहुत अच्छी है। चार दिन और एक बहुत बड़ी परेशानी इन सब बातों को संजय गुप्ता ने बहुत अच्छे से अपनी कहानी मे बताया है। संजय ने फिल्म की लोकेशन भी बहुत अच्छी चुनी है। इस फिल्म के संवाद भी बहुत अच्छे है। फिल्म मे आपको इरफान खान के संवाद बहुत पसंद आने वाले है। सभी घटनाओ को संजय गुप्ता ने बहुत अच्छे से शूट किया है। 

फिल्म मे ऐश्वर्या ने एक वकील के साथ बहुत अच्छी माँ का भी किरदार निभाया है। ऐश्वर्या की एक्टिंग मे कुछ कमी लगी है। वैसे तो ऐश्वर्या बहुत सुंदर है लेकिन उनकी एक्टिंग नेचुरल नहीं थी। फिल्म मे इरफान खान की एक्टिंग काबिले तारीफ है। इरफान एक बार फिर अपनी एक्टिंग से सबका दिल जीतने वाले है। फिल्म मे शबाना आजमी और जैकी श्रॉफ की एक्टिंग भी बहुत अच्छी है। 

फिल्म की शुरुवात 'सरफिरा' गाने से होती है। यह गाना सुनकर ही फिल्म देखने का मूड बन जाता है। फिल्म मे सिर्फ यही कमी रह गई है कि ऐश्वर्या की एक्टिंग थोड़ी और अच्छी हो सकती थी। ऐश्वर्या ने माँ के दर्द और जज़्बातों को समझने मे कुछ कमी कर दी है। फिल्म का भार ऐश्वर्या के कंधो पर ही था उनकी एक्टिंग के कारण फिल्म थोड़ी कमजोर हो गई है।   

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -