सरकारी डेटा चुराने के लिए ISIS भारतीय हैकरों को दे रहा लाखों डॉलर का लालच

Jan 26 2016 01:20 PM
सरकारी डेटा चुराने के लिए ISIS भारतीय हैकरों को दे रहा लाखों डॉलर का लालच

नई दिल्ली : बर्बर आतंकी संगठन आईएसआईएस अब भारत के खुफिया डेटा को पाने के लिए लाखों रुपए की मोटी रकम ऑफर कर रहा है। इसके लिए वो हैकरों से संपर्क साध रहा है। आईएसआईएस ने 30 हजार भारतीय हैकरों से कॉन्टैक्ट किया है। इन लोगों को 1-2 लाख नही बल्कि 10 हजार अमेरिकी डॉलर यानि करीब 6 लाख 78 हजार रुपए का लालच दिया गया है। 

मामले की भनक लगते ही भारतीय खुफिया एजेंसी इससे निपटने के प्रयासों में जुट गई है। साइबर क्राइम एक्सपर्ट किसलर चौधरी ने बताया कि कई ऑनलाइन कम्युनिटीज हैकर्स से लगातार संपर्क में है। यह काम पिछले 6 महीने से किया जा रहा है। इन हैकरों को सरकारी डेटा चुराने के लिए हायर करने की तैयारी की जा रही है। आईएसआईएस के गुर्गे फेसबुक जैसे सोशल प्लेटफॉर्मस के माध्यम से नौजवानों को टारगेट कर अपनी आइडियोलॉजी को शेयर कर रहे है। 

इंटरनेट पर ये प्रोपेगैंडा हिंदी, तमिल, गुजराती, उर्दू, बांग्ला और कई रीजनल लैंग्वेज में हो रहा है। हाल ही में सिक्युरिटी एजेंसीज ने पूरे देश से संदिग्ध आतंकियों को अरेस्ट किया था। दावा है कि ये लोग आईएसआईएस से जुड़े हुए थे और अटैक का प्लान बना रहे थे। भारतीय हैंडलर्स नेट पर यह पता लगाते हैं कि कौन आईएसआईएस या वेस्टर्न कंट्रीज के विरोध की आइडियोलॉजी को शेयर कर रहा है। फिर इन लोगों से कॉन्टैक्ट किया जाता है। 

यदि इनका झुकाव आईएसआईएस की ओर पाया जाता है, तो इनको कंटेंट और वीडियो दिया जाता है। महाराष्ट्र की एटीएस टीम ने आईएसआईएस से जुड़ी 94 वेबसाइटो को ब्लॉक कर दिया है। सरकार ने सोशल मीडिया पर हर वक्तच नजर रखने के लिए अलग से एक वॉर रुम भी बनाया है।