क्या पहाड़ों के पसीने को ही कहा जाता है शिलाजीत...?
क्या पहाड़ों के पसीने को ही कहा जाता है शिलाजीत...?
Share:

शिलाजीत, एक रहस्यमय और पूजनीय पदार्थ, जिसने सदियों से लोगों का आकर्षण बनाए रखा है। अक्सर "पहाड़ों का पसीना" के रूप में जाना जाता है, यह प्राकृतिक राल कई पहाड़ी क्षेत्रों में उच्च ऊंचाई वाली चट्टानों की दरारों और दरारों से निकलता है। इस अन्वेषण में, हम शिलाजीत की रहस्यमय दुनिया में उतरते हैं, इसकी उत्पत्ति, संरचना, संभावित लाभ और इसके अद्वितीय उपनाम के पीछे के विज्ञान को उजागर करते हैं।

शिलाजीत क्या है?

शिलाजीत एक चिपचिपा, टार जैसा पदार्थ है जो पहाड़ी इलाकों में चट्टानों से निकलता है, खासकर हिमालय, अल्ताई पर्वत, काकेशस पर्वत और अन्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों में। यह काला, रालयुक्त पदार्थ सदियों से पौधे और सूक्ष्मजीवी पदार्थों के अपघटन का परिणाम है। खनिजों, फुल्विक एसिड और अन्य कार्बनिक यौगिकों से भरपूर, शिलाजीत का उपयोग इसके कथित स्वास्थ्य लाभों के लिए पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता रहा है।

पहाड़ी पसीने का मिथक

उपनाम "पहाड़ों का पसीना" इस पदार्थ की एक ज्वलंत छवि प्रस्तुत करता है जो पृथ्वी की राजसी चोटियों का पसीना है। हालाँकि, यह वर्णन शाब्दिक से अधिक रूपकात्मक है। शिलाजीत का निर्माण एक जटिल भूवैज्ञानिक और जैविक प्रक्रिया है जिसमें पौधों के पदार्थ का अपघटन और युगों तक सूक्ष्मजीवों की परस्पर क्रिया शामिल होती है।

भूवैज्ञानिक उत्पत्ति

शिलाजीत की भूवैज्ञानिक उत्पत्ति प्राचीन जंगलों से होती है जो कभी उन क्षेत्रों को कवर करते थे जहां यह आज पाया जाता है। समय के साथ, ये जंगल तलछट की परतों के नीचे दब गए, अंततः ह्यूमस-समृद्ध भंडार में बदल गए। पृथ्वी की पपड़ी के भीतर अत्यधिक दबाव और गर्मी के कारण इन जमावों में एक उल्लेखनीय परिवर्तन हुआ, जिसके परिणामस्वरूप शिलाजीत का निर्माण हुआ।

शिलाजीत की संरचना

शिलाजीत बायोएक्टिव यौगिकों का खजाना है, जो इसे वैज्ञानिक रुचि का विषय बनाता है। इसकी संरचना में शामिल हैं:

* फुल्विक एसिड: एक प्रमुख घटक जो पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ाता है और एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रदर्शित करता है।

* ट्रेस मिनरल्स: शिलाजीत आयरन, जिंक और मैग्नीशियम जैसे आवश्यक खनिजों से भरपूर है।

* ह्यूमिक एसिड: अपने सूजन-रोधी और प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले प्रभावों के लिए जाना जाता है।

* डिबेंजो-अल्फा-पाइरोन्स: संभावित एडाप्टोजेनिक गुणों वाले यौगिक।

शिलाजीत के स्वास्थ्य लाभ

शिलाजीत ने अपने संभावित स्वास्थ्य लाभों के लिए लोकप्रियता हासिल की है, जिसमें शामिल हैं:

* ऊर्जा बूस्ट: कुछ उपयोगकर्ता शिलाजीत के सेवन के बाद ऊर्जा के स्तर में वृद्धि और थकान में कमी की रिपोर्ट करते हैं।

* एंटी-एजिंग: इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण उम्र बढ़ने और ऑक्सीडेटिव तनाव के प्रभावों से निपटने में मदद कर सकते हैं।

* संज्ञानात्मक कार्य: माना जाता है कि शिलाजीत संज्ञानात्मक स्वास्थ्य और स्मृति का समर्थन करता है।

* सूजन: इसमें सूजनरोधी प्रभाव हो सकता है, जो विभिन्न सूजन संबंधी स्थितियों में सहायता करता है।

* प्रतिरक्षा समर्थन: शिलाजीत के प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुण शोधकर्ताओं के लिए रुचिकर हैं।

वैज्ञानिक अन्वेषण

जबकि शिलाजीत का पारंपरिक उपयोग अच्छी तरह से प्रलेखित है, इसके चिकित्सीय गुणों को मान्य करने के लिए आधुनिक वैज्ञानिक अनुसंधान अभी भी जारी है। कई अध्ययनों ने टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार, मधुमेह के प्रबंधन और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने जैसे क्षेत्रों में इसके संभावित लाभों की जांच की है।

पवित्रता का महत्व

शुद्धता और प्रभावशीलता सुनिश्चित करने के लिए प्रतिष्ठित स्रोतों से उच्च गुणवत्ता वाले शिलाजीत उत्पादों को प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। इसकी बढ़ती लोकप्रियता के कारण, बाजार मिलावटी या निम्न-गुणवत्ता वाले संस्करणों से भर गया है।

उपयोग एवं खुराक

शिलाजीत राल, पाउडर और कैप्सूल सहित विभिन्न रूपों में उपलब्ध है। अनुशंसित खुराक उत्पाद और व्यक्तिगत आवश्यकताओं के आधार पर भिन्न हो सकती है। किसी भी पूरक आहार को शुरू करने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना उचित है। हालाँकि शिलाजीत वस्तुतः पहाड़ों का पसीना नहीं है, फिर भी यह पारंपरिक चिकित्सा में समृद्ध इतिहास के साथ एक आकर्षक प्राकृतिक पदार्थ है। इसके संभावित स्वास्थ्य लाभ और अद्वितीय भूवैज्ञानिक उत्पत्ति इसे निरंतर रुचि और शोध का विषय बनाते हैं। किसी भी पूरक की तरह, शिलाजीत को भी सावधानी से लेना, गुणवत्ता को प्राथमिकता देना और इसे अपनी स्वास्थ्य दिनचर्या में शामिल करते समय स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों से परामर्श करना आवश्यक है। प्राकृतिक आश्चर्यों के क्षेत्र में, शिलाजीत निस्संदेह पृथ्वी के प्राचीन रहस्यों के प्रतीक के रूप में अपना स्थान रखता है, जो खुलने की प्रतीक्षा कर रहा है।

मलेशिया में 5 दिन, इस तरह कम खर्चे में प्लान करें अपनी ट्रिप

ममता कैबिनेट में हुआ बदलाव, इंद्रनील सेन बने पर्यटन मंत्री, बाबुल सुप्रियो को मिला नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय

क्या आपके सिर में भी आता है पसीना? तो हो जाएं सावधान, पैदा कर सकता है बढ़ा खतरा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -