Share:
भारतीय बिजनेसमैन की कानूनी लड़ाई छीन लेगी महारानी के ताज से कोहिनूर
भारतीय बिजनेसमैन की कानूनी लड़ाई छीन लेगी महारानी के ताज से कोहिनूर

लंदन : अब तक आपने कई फिल्मों में कोहिनूर हीरे की चमक को देखा होगा, सुना होगा। पर वो नकली चमक है। कहा जाता है कि वो भारत की संपति है, पर फिलहाल वो ब्रिटेन की महारानी की ताज की शोभा बना हुआ है। मुमकिन है कि बहुत जल्द ये बेशकीमती हीरा अपने देश वापस आ जाएगा। क्योंकि इस हीरे को भारत लाने के लिए भारतीय व्यापारियों और कलाकारों का एक दल ब्रिटिश महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के खिलाफ कानूनी जंग छेडऩे जा रहा है।

कहा जाता है कि करीब 800 साल पहले कोहिनूर भारत के हीरे की खदान से निकला था, जो कि 105 कैरेट का है। ब्रिटिश राज के दौरान इसे तत्कालीन महारानी विक्टोरिया को भेंट स्वरुप दिया गया। फिलहाल यह टावर ऑफ लंदन में लोगो के दीदार के लिए रखा गया है। इस काम में टीटोज के को-फाउंडर डेविड डीसूजा फाइनेंशियल मदद करेंगे। उन्होंने ब्रिटिश वकीलों को हाईकोर्ट में सुनवाई की कार्यवाही शुरू करने को कहा है। उन्होंने भारत में भी अपने वकीलों से महारानी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई आगे बढ़ाने के लिए कहा है।   

एक अखबार से बातचीत के दौरान उन्होने कहा कि कोहिनूर उन शिल्पकृतियों में है, जिन्हें संदेहास्पद स्थिति में ले जाया गया। पराधीनता ने केवल धन ही नही लुटा ब्लकि इस देश की आत्मा को भी तार तार कर दिया। गौरतलब है कि अगले सप्ताह पीएम मोदी ब्रिटेन की यात्रा पर जाने वाले है, जहाँ वो महारानी के साथ लंच भी करेंगे। कहा जाता है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा काटा हुआ हीरा है। जिसे एक शासक वंश दूसरे शासक वंश को देते थे। 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -