Share:
तीसरी सबसे बड़ी इकॉनमी बनने के लिए तैयार भारत, बनेगा ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग का केंद्र - अमेरिकी रेटिंग एजेंसी का अनुमान
तीसरी सबसे बड़ी इकॉनमी बनने के लिए तैयार भारत, बनेगा ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग का केंद्र - अमेरिकी रेटिंग एजेंसी का अनुमान

नई दिल्ली: एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स (S&P Global Ratings) ने आज मंगलवार (5 दिसंबर) को कहा कि भारत 2030 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी, लेकिन देश के लिए एक बड़ी परीक्षा 'विशाल अवसर' को अनलॉक करना और अगला बड़ा वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनना होगा। अमेरिका स्थित रेटिंग एजेंसी को उम्मीद है कि भारत अगले तीन वर्षों में सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था होगी, जिसमें सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि चालू वित्त वर्ष में अनुमानित 6.4 प्रतिशत से बढ़कर 2026 तक 7 प्रतिशत तक पहुंच जाएगी।

बता दें कि, मार्च 2023 को समाप्त वित्तीय वर्ष 2022-23 में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.2 प्रतिशत बढ़ी। भारत की जीडीपी जून और सितंबर तिमाही में क्रमशः 7.8 प्रतिशत और 7.6 प्रतिशत बढ़ी। ये वृद्धि भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा जताए गए अनुमान से भी अधिक है। अब अमेरिकी रेटिंग एजेंसी ने कहा है कि, 'भारत 2030 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए तैयार है, और हमें उम्मीद है कि यह अगले तीन वर्षों में सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था होगी। एक सर्वोपरि परीक्षण यह होगा कि क्या भारत अगला बड़ा वैश्विक विनिर्माण केंद्र बन सकता है, ये एक विशाल अवसर है।''

एसएंडपी ने 'ग्लोबल क्रेडिट आउटलुक 2024: न्यू रिस्क, न्यू प्लेबुक' शीर्षक वाली अपनी रिपोर्ट में कहा कि, "एक मजबूत लॉजिस्टिक्स ढांचा विकसित करना भारत को सेवा-प्रधान अर्थव्यवस्था से विनिर्माण-प्रमुख अर्थव्यवस्था में बदलने में महत्वपूर्ण होगा।" वित्त वर्ष 2022-23 के अंत में 3.73 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के आकार के साथ भारत वर्तमान में अमेरिका, चीन, जर्मनी और जापान के बाद दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने भारत को 2027-28 में तीसरी सबसे बड़ी जीडीपी के साथ 5 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का अनुमान लगाया है। एसएंडपी ने कहा कि श्रम बाजार की संभावनाओं को अनलॉक करना काफी हद तक श्रमिकों के कौशल बढ़ाने और कार्यबल में महिला भागीदारी बढ़ाने पर निर्भर करेगा। इन दोनों क्षेत्रों में सफलता से भारत को अपने जनसांख्यिकीय लाभांश का एहसास हो सकेगा।

एसएंडपी ने कहा कि एक तेजी से बढ़ता घरेलू डिजिटल बाजार अगले दशक के दौरान भारत के उच्च-विकास स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र में विस्तार को बढ़ावा दे सकता है, विशेष रूप से वित्तीय और उपभोक्ता प्रौद्योगिकी में, ऑटोमोटिव क्षेत्र में, भारत विकास, बुनियादी ढांचे पर निर्माण, निवेश के लिए तैयार है। एसएंडपी ने आगे कहा कि 2024 में 50 से अधिक देशों में चुनाव (राष्ट्रपति और/या विधायी) होने हैं, जिनमें से कई के वैश्विक प्रभाव हो सकते हैं। युद्ध में फंसे रूस और यूक्रेन दोनों में, जो जल्द ही अपने तीसरे वर्ष में प्रवेश करेगा, मार्च में राष्ट्रपति चुनाव होंगे।

एसएंडपी ने कहा कि नवंबर में अमेरिकी राष्ट्रपति और विधायी चुनाव मध्य पूर्व और रूस-यूक्रेन दोनों स्थितियों में अनिश्चितता की एक परत जोड़ रहे हैं, यूक्रेन और इज़राइल के लिए अतिरिक्त फंडिंग के समर्थन के संबंध में कांग्रेस में अलग-अलग स्थिति है। इसमें आगे कहा गया है कि इंडोनेशिया, भारत, दक्षिण अफ्रीका और मैक्सिको सहित कई उभरते बाजारों में 2024 में चुनाव होंगे। नीतिगत पूर्वानुमान का निम्न स्तर निवेशकों की भावना को कमजोर कर सकता है और मौजूदा निवेश क्षमता को पटरी से उतार सकता है। एसएंडपी ने कहा कि, "उभरते बाजारों को अभी भी संरचनात्मक अवसरों से लाभ उठाने के लिए काम करना है। उदाहरण के लिए, इन विकासशील रुझानों में निवेश आकर्षित करने के लिए नीति दृश्यता बढ़ाना महत्वपूर्ण होगा।"

'2000 रुपये के नोट वैध मुद्रा बने रहेंगे..', RBI के नए ऐलान से मची हलचल, आखिर क्या है मायने ?

भारत की GDP में जबरदस्त इजाफा, अनुमान को भी पार कर गई वृद्धि

अमेरिका को ही अपनी कंपनी 'हिंडनबर्ग' पर भरोसा नहीं ! अडानी ग्रुप को क्लीन चिट के साथ दिए 4600 करोड़, शेयर बने रॉकेट

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -