Share:
रोजाना ब्रह्म मुहूर्त में करेंगे ये 2 काम, तो हमेशा नोटों से भरी रहती है जेब
रोजाना ब्रह्म मुहूर्त में करेंगे ये 2 काम, तो हमेशा नोटों से भरी रहती है जेब

सनातन धर्म में ब्रह्म मुहूर्त को दिन का सबसे शुभ समय माना गया है. ब्रह्म मुहूर्त प्रातः 4 बजे से सुबह 5.30 बजे के बीच होता है. कहा जाता हैं कि ब्रह्म मुहूर्त में नींद से जागने वालों पर हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा रहती है. ब्रह्म मुहूर्त में उठने की आदत मनुष्य को सफल बनाती है. ब्रह्म मुहूर्त में 2 विशेष कार्य करने वालों की हमेशा उन्नति होती है. ऐसे लोगों की दहलीज पर निर्धनता कभी पांव नहीं रखती है.

पहला काम:-
ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नानादि के पश्चात् सुख आसन में बैठ जाएं. फिर अपनी दोनों आंखें बंद करके एक लाभकारी मंत्र का जाप करें. "ऊँ ब्रह्म मुरारी पुरान्तकारी भानु शशि भूमिस्तुतों बुधश्च गुरुश्च, शुक्र, शनिए, राहु, केतवा कुरुवंतु सर्वे मर्मे सुप्रभातम ऊँ" मंत्र का जाप करें. ब्रह्म मुहूर्त में इस मंत्र का जाप करने से देवी-देवता प्रसन्न होते हैं. ऐसा करने वालो के घर में कभी नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं करती है.

दूसरा काम:-
ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सबसे पहले अपनी हथेलियों को देखें तथा 'ॐ कराग्रे वसते लक्ष्मी करमध्ये सरस्वती करमूले: तू गोविंदा: प्रभाते कर दर्शनम्" मंत्र का जाप करें. कहा जाता हैं कि हमारी हथेलियों में ग्रहों एवं देवी-देवताओं का वास होता है. इसलिए हथेलियों को देखने से हमें सभी देवी-देवताओं के दर्शन हो जाते हैं. यही वजह है कि शास्त्रों में देर तक सोने से मना किया गया है. कहा जाता हैं कि देर तक सोए रहने वालों को जीवन में कभी तरक्की नहीं प्राप्त होती है.

उत्पन्ना एकादशी पर जरूर करें ये काम, घर में आएगी खुशहाली

कब है मार्गशीर्ष माह की पहली एकादशी? जानिए शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

जानिए कैसे हुई काल भैरव की उत्पत्ति? यहाँ जानिए पौराणिक कथा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -