Share:
परिवार के सदस्य को हो गया है कैंसर, तो बरतें ये सावधानियां
परिवार के सदस्य को हो गया है कैंसर, तो बरतें ये सावधानियां

"कैंसर" एक ऐसा शब्द है जो किसी के भी मन में डरावने सपने जगा सकता है। चिकित्सा के क्षेत्र में अनेक प्रगति के बावजूद, कैंसर एक जानलेवा बीमारी बनी हुई है। कैंसर का शीघ्र पता लगने से उपचार आसान हो सकता है और जीवित रहने की संभावना काफी बढ़ सकती है। हालाँकि, ऐसे उदाहरण भी हैं जब कैंसर के उन्नत चरण तक पहुँचने तक किसी का ध्यान नहीं जाता, जिससे रोगी को बचाना मुश्किल हो जाता है। कैंसर के कारणों में खराब जीवनशैली, धूम्रपान, विकिरण के संपर्क में आना, कुछ रसायनों के संपर्क से लेकर आनुवंशिक कारक तक शामिल हैं।

यदि कैंसर का पारिवारिक इतिहास है (माता-पिता या दादा-दादी को कैंसर था), तो जोखिम अगली पीढ़ियों तक बढ़ सकता है। इसका मतलब यह है कि अगर परिवार में किसी को कैंसर है, तो आने वाली पीढ़ियों के लिए खतरा बढ़ जाता है, खासकर पहली पीढ़ी (माता-पिता के बच्चों) में। इसलिए, इस जानलेवा बीमारी को रोकने के लिए कुछ कारकों का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है।

आनुवंशिक परीक्षण:
आनुवंशिक परीक्षण, या आनुवंशिक स्क्रीनिंग, एक ऐसी तकनीक है जो किसी भी परिवर्तन की पहचान करने के लिए जीन की जांच करती है जो संभावित रूप से किसी बीमारी का कारण बन सकती है। यदि कैंसर का पारिवारिक इतिहास है, खासकर करीबी रिश्तेदारों में, तो किसी भी जीन उत्परिवर्तन की उपस्थिति निर्धारित करने के लिए आनुवंशिक परीक्षण सावधानी से किया जा सकता है जो कैंसर के विकास के जोखिम में योगदान दे सकता है।

विचार:
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कैंसर के पारिवारिक इतिहास वाले हर व्यक्ति को यह रोग होना आवश्यक नहीं है। विभिन्न प्रकार के कैंसर में अलग-अलग आनुवंशिक घटक हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, डिम्बग्रंथि और स्तन कैंसर का महिलाओं में आनुवंशिक घटक हो सकता है, जबकि प्रोस्टेट कैंसर का पुरुषों में आनुवंशिक संबंध हो सकता है। इसके अतिरिक्त, अचानक वजन कम होना, हड्डियों में दर्द, लगातार खांसी या खांसी में खून आना और लंबे समय तक बुखार रहना जैसे असामान्य लक्षणों पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। इन संकेतों को नजरअंदाज करना नुकसानदायक हो सकता है.

आहार विहार:
कैंसर के खतरे को कम करने के लिए कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, स्वस्थ वसा, खनिज और विटामिन से भरपूर स्वस्थ आहार बनाए रखना आवश्यक है। ताजा और असंसाधित खाद्य पदार्थों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए, जबकि तंबाकू, शराब और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से परहेज करना समग्र कल्याण में योगदान दे सकता है। ऐसी आदतों से दूर रहने से न केवल कैंसर का खतरा कम होता है बल्कि कई अन्य गंभीर बीमारियों की संभावना भी कम हो जाती है।

स्वस्थ दिनचर्या अपनाएं:
कैंसर से बचने और स्वस्थ रहने की चाह में, दैनिक जीवन में नियमित शारीरिक गतिविधि को शामिल करना अनिवार्य है। कम से कम 30 मिनट का मध्यम व्यायाम, जैसे पैदल चलना, साइकिल चलाना या अन्य प्रकार के व्यायाम करने से गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को काफी कम किया जा सकता है।

निष्कर्ष में, जबकि कैंसर एक दुर्जेय प्रतिद्वंद्वी बना हुआ है, आनुवंशिक परीक्षण पर विचार करके एक सक्रिय दृष्टिकोण अपनाने, पारिवारिक इतिहास के प्रति सचेत रहने, स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखने और शारीरिक रूप से सक्रिय रहने से इस जीवन-घातक बीमारी के विकास के जोखिम को कम करने में काफी मदद मिल सकती है। . प्रारंभिक पहचान एक महत्वपूर्ण कारक बनी हुई है, और संभावित लक्षणों के प्रति सतर्क रहने से परिणाम में महत्वपूर्ण अंतर आ सकता है।

क्या लाडले को हर मुद्दे पर आता है गुस्सा करता है हर बात का विरोध तो इस तरह करें हैंडल

आंखों की थकान कैसे दूर करें? 5 एक्सरसाइज की मदद लें, बरकरार रहेगी रोशनी

हार्ट अटैक के बाद ऐसे रखें अपने दिल का ख्याल, एक्सपर्ट्स से जानें क्या खाएं और क्या नहीं

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -