Share:
बालों में बढ़ रही फ्रिजीनेस से न हो परेशान, अपनाएं ये उपाय
बालों में बढ़ रही फ्रिजीनेस से न हो परेशान, अपनाएं ये उपाय

जैसे-जैसे मौसम बदलता है, हमारे बालों की नमी ख़त्म होने लगती है। ठंडी हवाएं हमारे बालों को रूखा और बेजान बना देती हैं। इस समस्या से निपटने के लिए लोग अक्सर तरह-तरह के सीरम और शैंपू का सहारा लेते हैं। हालाँकि, पर्याप्त पोषण के बिना, सूखेपन से प्रभावी ढंग से निपटना चुनौतीपूर्ण हो जाता है। ऐसे में नियमित तेल मालिश आपके बालों को मुलायम, चमकदार और मजबूत बनाए रखने में मदद कर सकती है। आइए कुछ प्रभावी प्राकृतिक तेलों के बारे में जानें जो घुंघराले बालों की समस्या से निपटने में मदद कर सकते हैं।

प्राकृतिक तेल बालों में घनत्व जोड़ते हैं और त्वचा और बाल दोनों पर बदलते मौसम के प्रभावों से निपटने में मदद कर सकते हैं। पायल ह्यूबर्स की संस्थापक और सौंदर्य विशेषज्ञ पायल सिन्हा के अनुसार, बालों की मालिश से न केवल बालों की बनावट में सुधार होता है बल्कि बालों की मात्रा भी बढ़ती है। नारियल का तेल बालों की विभिन्न समस्याओं को दूर करने में बेहद कारगर है। नीम की पत्तियों को उबालकर बाल धोने के लिए इस्तेमाल करना भी फायदेमंद साबित होता है। इसके अलावा, प्राकृतिक तेल बालों में चमक लाने के लिए उत्कृष्ट होते हैं।

यहां बताया गया है कि आप घुंघराले बालों की समस्या से कैसे छुटकारा पा सकते हैं:
एवोकैडो तेल:
विटामिन ई से भरपूर एवोकैडो तेल स्कैल्प से रूखापन दूर करने में मदद करता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट और बायोटिन सामग्री बालों के विकास को बढ़ावा देने में सहायता करते हैं। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ट्राइकोलॉजी के अनुसार, एवोकाडो में मौजूद खनिज क्यूटिकल्स को लॉक करने में मदद करते हैं, जिससे बाल मजबूत होते हैं। बालों की नमी बनाए रखने के लिए इसे धोने से पहले एक घंटे के लिए बालों पर छोड़ दें।

बादाम का तेल: बादाम का तेल रूखेपन से निपटने और बालों के विकास को बढ़ाने में अत्यधिक प्रभावी है। प्रोटीन, विटामिन ई और ओमेगा 9 फैटी एसिड से भरपूर, यह बालों को पोषण देता है, ऊर्जा हानि को कम करता है। धोने के बाद सीरम के रूप में बादाम के तेल का उपयोग बालों को पर्यावरणीय प्रदूषकों से बचा सकता है, जिससे बालों का झड़ना रोका जा सकता है।

अंगूर के बीज का तेल: अंगूर के बीज के तेल से नियमित मालिश करने से बालों का झड़ना कम हो सकता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट और रोम-मजबूत करने वाले गुण स्वस्थ बालों के विकास को बढ़ावा देते हैं, खोपड़ी को शुष्कता से मुक्त रखते हैं।

नारियल का तेल: नारियल का तेल, अपने प्राकृतिक मॉइस्चराइजिंग गुणों के साथ, बालों का सूखापन कम करता है। नारियल तेल से नियमित मालिश करने से न केवल बालों की बनावट मजबूत होती है बल्कि उनमें चमक और कोमलता भी आती है।

चाय के पेड़ का तेल: चाय के पेड़ का तेल, जब खोपड़ी पर लगाया जाता है, तो खोपड़ी के सूखेपन और रूसी से निपटने में मदद करता है, जिससे बालों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है। इसके जीवाणुरोधी गुण खोपड़ी को विभिन्न संक्रमणों से बचाते हैं।

तेल लगाने से पहले निम्नलिखित टिप्स का ध्यान रखें:
एलर्जी से बचें:
अपने बालों में तेल लगाने से पहले अपनी त्वचा के प्रकार को पहचानें। अपने हाथों और बांहों पर किसी भी एलर्जी प्रतिक्रिया की जांच के लिए पैच परीक्षण करें।

मुंहासों को रोकें: रात भर तेल लगाने से न केवल बालों को नुकसान पहुंचता है, बल्कि चेहरे पर मुंहासे और त्वचा संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। खोपड़ी पर अत्यधिक तेल चेहरे पर तेल जमा होने का कारण बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप मुँहासे हो सकते हैं।

चिपचिपे बाल: बालों में हर समय तेल लगाने से धूल और गंदगी आकर्षित हो सकती है, जिससे बाल चिपचिपे हो जाते हैं और स्कैल्प संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। बालों की जड़ों को मजबूत करने के लिए नहाने से कम से कम एक घंटा पहले तेल लगाएं।

इन युक्तियों का पालन करके और अपने बालों की देखभाल की दिनचर्या में प्राकृतिक तेलों के उपयोग को शामिल करके, आप घुंघराले बालों से प्रभावी ढंग से निपट सकते हैं और बदलते मौसम के दौरान स्वस्थ, चमकदार बाल बनाए रख सकते हैं।

एक बार घर पर जरूर ट्राय करें मुगलई शाही टुकड़ा, आ जाएगा मजा

हेल्दी रहने के लिए डाइट में शामिल करें ये चीजें

कम समय में घर पर ऐसे तैयार करें फलों की थाली

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -