सुबह-सुबह रोजाना जरूर करें ये 6 काम, कभी नहीं होंगे बीमार
सुबह-सुबह रोजाना जरूर करें ये 6 काम, कभी नहीं होंगे बीमार
Share:

हार्मोनल असंतुलन एक ऐसी समस्या है जो विशेष रूप से महिलाओं को प्रभावित करती है, जिससे थायरॉयड विकार, अनियमित मासिक धर्म, वजन बढ़ना, त्वचा में खुजली, चिंता, अवसाद और ऊर्जा के स्तर में कमी जैसी समस्याएं होती हैं। हार्मोन एक प्रकार के रसायन होते हैं जो ग्रंथियों से निकलते हैं और रक्तप्रवाह का हिस्सा बन जाते हैं, जिससे शरीर में विभिन्न कार्यों को सुविधाजनक बनाया जाता है। जब इन हार्मोनों में व्यवधान होता है, तो यह विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियों के रूप में प्रकट होता है। हार्मोनल असंतुलन विभिन्न कारणों से उत्पन्न हो सकता है। सुबह की निम्नलिखित छह आदतों को अपनाकर व्यक्ति हार्मोनल असंतुलन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

सुबह सूरज की रोशनी में बैठें:
सुबह के समय सूरज की रोशनी में बैठना हार्मोन्स को संतुलित करने का सबसे अच्छा फार्मूला है। सूर्य की किरणें हार्मोन को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। यह हार्मोन मेलाटोनिन के उत्पादन और बॉडी क्लॉक को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। इसके अलावा, सुबह की धूप विटामिन डी का एक समृद्ध स्रोत है, जो हड्डियों को मजबूत बनाती है।

स्ट्रेचिंग और व्यायाम:
सुबह के समय हल्का व्यायाम और स्ट्रेचिंग हार्मोन को बढ़ावा देने में मदद करती है। स्क्वैट्स, पुल-अप्स, पुश-अप्स और क्रंचेज छोटी अवधि के लिए किए जाने वाले आदर्श व्यायाम हैं। धीरे-धीरे व्यायाम की अवधि बढ़ाने से हार्मोन को संतुलित करने में मदद मिल सकती है।

दिन की शुरुआत चाय या कॉफ़ी से करने से बचें:
अगर आप अपने दिन की शुरुआत चाय या कॉफी से कर रहे हैं तो इस आदत को तुरंत बदलने की सलाह दी जाती है। खाली पेट चाय पीने से पाचन क्रिया पर असर पड़ सकता है. कैफीन के अत्यधिक सेवन से कोर्टिसोल हार्मोन का उत्पादन बढ़ सकता है, जिससे सूजन और हार्मोनल असंतुलन हो सकता है।

प्रोटीन युक्त नाश्ता करें:
जागने के एक घंटे के भीतर प्रोटीन युक्त नाश्ता करना हार्मोन को नियंत्रित करने का एक प्रभावी तरीका है। प्रोटीन युक्त नाश्ता इंसुलिन और कोर्टिसोल को संतुलित करने में मदद करता है, जिससे पूरे दिन निरंतर ऊर्जा स्तर सुनिश्चित होता है और फोकस में सुधार होता है। एक स्वस्थ नाश्ता न केवल हार्मोनल संतुलन बनाए रखता है बल्कि स्वस्थ चयापचय का भी समर्थन करता है।

ऑयल पुलिंग
प्रतिदिन ऑयल पुलिंग यानी तेल से कुल्ला करने की आदत हार्मोंस को बैलेंस करने में सहायता करती है। दादी-नानी के नुस्खे के अनुसार, ऑयल पुलिंग करने से पीरियड्स रेगुलर रहते हैं जो कि पूरी तरह से हार्मोंस से जुड़े हुए हैं। और प्री मेंस्ट्रुएल सिंड्रोम की समस्या सही होती है। 

हरी घास पर चलें:
सुबह ताजी हरी घास पर चलने से न केवल शारीरिक आराम मिलता है बल्कि मानसिक आराम भी मिलता है। यह अभ्यास कोर्टिसोल हार्मोन के सामान्य उत्पादन को बनाए रखने और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता करता है। इसके अतिरिक्त, घास पर नंगे पैर चलने से चयापचय में सुधार, सूजन कम करने और याददाश्त बढ़ाने में मदद मिलती है।

जब ये आदतें आपकी दैनिक दिनचर्या में शामिल हो जाती हैं, तो हार्मोनल संतुलन बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती हैं, जिससे समग्र स्वास्थ्य में सुधार होता है। इन प्रथाओं को प्राथमिकता देकर, महिलाएं हार्मोनल असंतुलन से जुड़े लक्षणों को प्रभावी ढंग से प्रबंधित और कम कर सकती हैं, जिससे वे स्वस्थ और अधिक संतुलित जीवन जी सकती हैं।

करवा चौथ से पहले इन नुस्खों से दूर करें पिगमेंटेशन की टेंशन

डैश डाइट क्या है? आखिर क्यों बढ़ रही इसकी दुनियाभर में डिमांड

दाढ़ी ठीक से नहीं बढ़ रही है तो इन चीजों का करें इस्तेमाल, मिलेगा फायदा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -