उत्तरकाशी सुरंग में अब भी जारी है बचाव कार्य मलवे में बीच दबी है कई जिंदगियां
उत्तरकाशी सुरंग में अब भी जारी है बचाव कार्य मलवे में बीच दबी है कई जिंदगियां
Share:

उत्तरकाशी में एक निर्माणाधीन सुरंग में भूस्खलन के बाद बचाव प्रयासों के चुनौतीपूर्ण तीसरे दिन में, अधिकारी फंसे हुए मजदूरों को निकालने के लिए नए उपाय अपना रहे हैं। यहां चल रहे बचाव अभियान पर विस्तृत अपडेट दिया गया है:

सुरक्षित निकासी के लिए पाइप स्थापना

बचाव अभियान में एक महत्वपूर्ण विकास एक बरमा ड्रिलिंग मशीन का आगमन है, जो निकासी प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है। मशीन सुरंग में 900 मिमी स्टील पाइप स्थापित करेगी, जो फंसे हुए श्रमिकों के लिए एक सुरक्षित मार्ग प्रदान करेगी।

ऑन-साइट तैयारी और ड्रिलिंग प्रगति

900 मिमी पाइपों को घटना स्थल पर पहुंचा दिया गया है, और बरमा ड्रिलिंग मशीन के इंस्टॉलेशन प्लेटफॉर्म की तैयारी पूरी हो गई है। ड्रिलिंग मशीन सेटअप तेजी से आगे बढ़ रहा है, जो बचाव अभियान में तेजी का संकेत देता है।

मृदा प्रवेश चुनौतियों का शमन

सुरंग में ऊपर से मिट्टी के निरंतर प्रवेश ने निर्माण में एक पाइप की शुरूआत को प्रेरित किया है। इस रणनीतिक कदम का उद्देश्य मिट्टी के आगे प्रवेश को बाधित करना है, जिसमें ड्रिलिंग मशीन पाइप लगाने में सहायक होती है। ऑपरेशन पूरा होने में 24 घंटे तक का समय लगने का अनुमान है।

सुरंग के अंदर सुरक्षा आश्वासन

आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत कुमार सिन्हा ने जनता को आश्वस्त किया कि सुरंग के अंदर सभी कर्मचारी सुरक्षित हैं। स्थापित पाइपलाइन के माध्यम से, फंसे हुए मजदूरों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए भोजन, पानी और ऑक्सीजन की निरंतर आपूर्ति प्रदान की जा रही है।

SDRF कमांडर का आश्वासन

राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) के कमांडेंट मणिकांत मिश्रा ने श्रमिकों को आश्वस्त करते हुए उन्हें सुरक्षित बचाव का आश्वासन दिया। कंप्रेसर प्रणाली के माध्यम से फंसे हुए मजदूरों तक भोजन और आवश्यक दवाओं सहित पर्याप्त आपूर्ति पहुंचाई गई है।

चुनौतियाँ और अनुमानित समय सीमा

बचावकर्मियों का अनुमान है कि मलबे को सावधानीपूर्वक साफ किया जाएगा, उनका अनुमान है कि फंसे हुए श्रमिकों तक पहुंचने से पहले लगभग 35 मीटर मलबे को हटाने की जरूरत है। बचाव अभियान 52 घंटे से अधिक समय से चल रहा है, जो कार्य की जटिलता को रेखांकित करता है।

निरीक्षण और नरम चट्टान की पहचान

आपदा प्रबंधन सचिव डॉ. सिन्हा ने सुरंग के अंदरूनी हिस्से का निरीक्षण किया और भूस्खलन में योगदान देने वाली नरम चट्टान की उपस्थिति की पहचान की। जेसीबी और अन्य मशीनरी से लगातार मलबा हटाने का काम जारी है।

अतिरिक्त ऑक्सीजन आपूर्ति और निकासी की संभावनाएँ

फंसे हुए श्रमिकों को पाइपलाइन और संपीड़ित दोनों तरीकों से अतिरिक्त ऑक्सीजन प्रदान करने का प्रयास चल रहा है। बचाव दल का लक्ष्य अगले 24 से 48 घंटों के भीतर निकासी को पूरा करना है, जिससे 40 मजदूरों की सुरक्षित निकासी सुनिश्चित हो सके।

फंसे हुए श्रमिकों के साथ बातचीत

कमांडर मिश्रा द्वारा आयोजित वॉकी-टॉकी इंटरैक्शन में, फंसे हुए श्रमिकों ने अपनी भलाई व्यक्त की और आवश्यक आपूर्ति की प्राप्ति की पुष्टि की। बचाव दल ऑपरेशन के दौरान श्रमिकों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

मजदूरों के लिए दिवाली उत्सव में देरी

निर्माण परियोजना में शामिल मजदूर, जो शुरू में दिवाली मनाने की उम्मीद कर रहे थे, उन्होंने त्योहार से कुछ घंटे पहले खुद को फंसा हुआ पाया। यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना तब घटी जब वे दिन की अपनी शिफ्टें ख़त्म कर रहे थे।

परियोजना पृष्ठभूमि और शेष निर्माण

यह घटना चारधाम राजमार्ग परियोजना का हिस्सा, निर्माणाधीन सिल्क्यारा सुरंग में हुई, जिसमें 4.5 किलोमीटर लंबी सुरंग को पूरा करने के लिए केवल 500 मीटर की दूरी शेष थी। इस परियोजना में दो पालियों में काम करने वाले मजदूर शामिल हैं, जो नवयुग, श्री साईं कंस्ट्रक्शन और नव दुर्गा सहित विभिन्न कंपनियों के निर्माण में योगदान दे रहे हैं। जैसे-जैसे बचाव अभियान आगे बढ़ रहा है, बचाव टीमों और अधिकारियों के संयुक्त प्रयास सभी फंसे हुए मजदूरों की सुरक्षित निकासी सुनिश्चित करने पर केंद्रित हैं। जटिल प्रक्रिया में रणनीतिक ड्रिलिंग, निरंतर मलबा हटाना और सुरंग के अंदर के लोगों की भलाई के प्रति प्रतिबद्धता शामिल है।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -