क्या आपको भी कभी किसी के छूने पर लगा है करंट? यहाँ जानिए इसका कारण
क्या आपको भी कभी किसी के छूने पर लगा है करंट? यहाँ जानिए इसका कारण
Share:

क्या आपको कभी किसी के छूने पर अचानक झटका, बिजली के झटके जैसी अनुभूति महसूस हुई है? यह अनोखी घटना परेशान करने वाली और हैरान करने वाली हो सकती है। यह अक्सर बिजली के तेज़ झटके या त्वचा पर तेज़ चुभन जैसा महसूस होता है। हालाँकि यह किसी भी समय हो सकता है, यह सर्दियों के महीनों के दौरान अधिक आम है। इस लेख का उद्देश्य इस घटना के पीछे के विज्ञान की गहराई से पड़ताल करना और यह बताना है कि ऐसा क्यों होता है।

इसके पीछे का कारण
अपनी प्रारंभिक शिक्षा में, हमने सीखा कि दुनिया में हर चीज़ परमाणुओं से बनी है, जो पदार्थ के निर्माण खंड हैं। परमाणुओं में तीन मूलभूत कण होते हैं: इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन। इलेक्ट्रॉनों पर ऋणात्मक (-ve) आवेश होता है, प्रोटॉन पर धनात्मक (+ve) आवेश होता है, जबकि न्यूट्रॉन तटस्थ होते हैं। हमारे शरीर में भी इलेक्ट्रॉन और प्रोटॉन होते हैं। आम तौर पर, इलेक्ट्रॉनों और प्रोटॉन की संख्या संतुलित होती है। हालाँकि, कभी-कभी यह संतुलन बाधित हो सकता है, जिससे इलेक्ट्रॉनों के भीतर प्रचुर मात्रा में गतिविधि हो सकती है। जब ऐसा होता है, तो हमारे शरीर के अंदर के इलेक्ट्रॉन अत्यधिक उत्तेजित हो जाते हैं।

वही अब, जब कोई व्यक्ति या वस्तु हमारे संपर्क में आती है और उसके पास इलेक्ट्रॉनों की अधिकता होती है, तो वह अतिरिक्त ऋणात्मक आवेश ले जाता है। सरल शब्दों में, हमारे शरीर में नकारात्मक चार्ज वाले इलेक्ट्रॉनों की यह बहुतायत उस व्यक्ति या वस्तु के सकारात्मक चार्ज की ओर आकर्षित होती है जिसे हम छूते हैं।

इसे और अधिक स्पष्ट रूप से कहें तो, जब हमारे शरीर में इलेक्ट्रॉन असंतुलन होता है, तो किसी चीज या किसी को छूने से अतिरिक्त इलेक्ट्रॉन बाहर निकल जाते हैं और संतुलन की तलाश करते हैं। परिणामस्वरूप, हमें बिजली के झटके जैसी अनुभूति महसूस होती है। यह घटना इसलिए घटित होती है क्योंकि इलेक्ट्रॉन तेजी से एक पिंड से दूसरे पिंड में जाते हैं, जिससे अचानक झटका लगता है जिसे हम झटके के रूप में देखते हैं।

छूने पर बिजली के झटके की अनुभूति संतुलन चाहने वाले इलेक्ट्रॉनों की गति का परिणाम है। जब हमारे शरीर में इलेक्ट्रॉन असंतुलन होता है, तो किसी भिन्न आवेश वाली वस्तु या व्यक्ति को छूने से ये अतिरिक्त इलेक्ट्रॉन बाहर निकल जाते हैं, जिससे एक संक्षिप्त लेकिन ध्यान देने योग्य बिजली जैसी अनुभूति पैदा होती है। हालाँकि यह किसी भी समय हो सकता है, यह सर्दियों के महीनों के दौरान अधिक आम है जब परिस्थितियाँ स्थैतिक बिजली के निर्माण के लिए अनुकूल होती हैं। इस वैज्ञानिक व्याख्या को समझने से इस अनोखी अनुभूति को उजागर करने में मदद मिल सकती है।

21 साल की उम्र में महिलाएं भूलकर भी ना करें ये गलतियां, वरना तेजी से बढ़ेगी पेट की चर्बी

महिलाओं के लिए अमृत है केसर और किशमिश का ये ड्रिंक, रोजाना करें सेवन

मोबाइल में मगन रहते हैं बच्चे, 6 तरीकों से घटाएं स्क्रीन टाइम

ब्रेकफास्ट रेसिपी: नाश्ते में बनाएं पोहा चीला, दिनभर रहेंगे एनर्जी से भरपूर

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -