विकास दर के मामले में भारत ने चीन को पीछे छोड़ा

वाॅशिंगटन : अतंर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की रिपोर्ट के अनुसार भारत ने विकास दर के मामले में चीन को पीछे छोड़ दिया है। इस दौरान भारत की जीडीपी करीब 7.5 प्रतिशत आंकी गई है। मामले में कहा गया है कि चीन की विकास दर इससे कुछ कम लगभग 6.8 प्रतिशत है। माना जा रहा है कि वर्ष 2016 में भारत की विकास दर और भी बढ़ सकती है। मिली जानकारी के अनुसार कहा गया है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था को लेकर कहा गया है कि वर्ष2015 की पहली तिमाही में वैश्विक विकास दर करीब 2.2 प्रतिशत थी। इस दौरान कहा गया है कि कच्चे तेल के दामों का विकास दर पर असर पड़ सकता है।

विकास दर में पिछले समय जो कमी आंकी गई वह अमेरिकी उत्पादकता में गिरावट आने के कारण उपजी मानी जा रही है। कहा गया है कि वर्ष 2015 में कच्चे तेल के जो दाम 59 रूपए प्रतिबैरल के दाम पर थे। मगर कहा गया है कि वर्ष 2016 और इसके बाद के वर्षों में तेल के दामों में अधिक वृद्धि की अपेक्षा नहीं है। ऐसे में विकास दर नकारात्मक तौर पर प्रभावित नहीं होगा। हालांकि आर्थिक विश्लेषकों ने माना कि ग्रीस समेत वैश्विक अर्थव्यवस्था में गिरावट आने का असर आंशिक रूप से जरूर पड़ेगा लेकिन इसका गहरा असर नहीं होगा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -