जिंदगी की कड़वी सच्चाई,सही मायने में

Oct 09 2015 01:35 PM
जिंदगी की कड़वी सच्चाई,सही मायने में

"जीवन मंत्र "

  • जिंदगी में दो चीज़ें हमेशा टूटने के लिए ही होती हैं:

सांस और साथ

सांस टूटने से तो इंसान 1 ही बार मरता है; 

पर किसी का साथ टूटने से इंसान पल-पल मरता है।

  • जीवन का सबसे बड़ा अपराध -

किसी की आँख में आंसू आपकी वजह से होना।

और

  • जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि -

किसी की आँख में आंसू आपके लिए होना।

जरुरत के मुताबिक जिंदगी जिओ - ख्वाहिशों के मुताबिक नहीं।

क्योंकि जरुरत तो फकीरों की भी पूरी हो जाती है; और ख्वाहिशें बादशाहों की भी अधूरी रह जाती है।

  • मनुष्य सुबह से शाम तक काम करके उतना नहीं थकता;

जितना क्रोध और चिंता से एक क्षण में थक जाता है।

  • दुनिया में कोई भी चीज़ अपने आपके लिए नहीं बनी है।

जैसे:--

दरिया - खुद अपना पानी नहीं पीता।

पेड़ - खुद अपना फल नहीं खाते।

सूरज - अपने लिए हररात नहीं देता

फूल - अपनी खुशबु अपने लिए नहीं बिखेरते।

मालूम है क्यों ? ?

क्योंकि दूसरों के लिए ही जीना ही असली जिंदगी है।

  • मांगो तो अपने रब से मांगो;

जो दे तो रहमत और न दे तो किस्मत;

लेकिन दुनिया से हरगिज़ मत माँगना;

क्योंकि दे तो एहसान और न दे तो शर्मिंदगी।

  •  कभी भी 'कामयाबी' को दिमाग और 'नकामी' को दिल में जगह नहीं देनी चाहिए। 

क्योंकि, कामयाबी दिमाग में घमंड और नकामी दिल में मायूसी पैदा करती है।

  • कौन देता है उम्र भर का सहारा।

लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं।

सुखी जीवन के 6 मन्त्र --

1 अगर 'पूजा' कर रहे हो - तो 'विश्वास' करना सीखो !

2 'बोलने' से पहले - 'सुनना' सीखो !

3 अगर 'खर्च' करना है - तो 'कमाना' सीखो 

4 अगर 'लिखना' है - तो 'सोचना' सीखो !

5 'हार' मानने से पहले - फिर से 'कोशिश' करना सीखो !

6 'मरने' से पहले - खुल के 'जीना'

इन छोटी छोटी बातों को जीवन में अपना ले तो जीवन सफल हो जायेगा । और शायद स्वर्ग नर्क के चक्कर से भी मुक्त हो जायेंगे ।