पायलट के सपनों को लगे पंख

पायलट के सपनों को लगे पंख

मुंबई : ऐसे बहुत कम लोग खुशनसीब होते हैं, जिनके सपनों का साकार करने में सरकार मदद करती है.लेकिन एक वाणिज्यिक पायलट अमोल यादव ऐसे शख्स हैं , जिनके सपनों को उड़ान भरने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने पंख लगा दिए . दरअसल यादव के साथ मैग्नेटिक महाराष्ट्र’ वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन में राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पायलट अमोल यादव के साथ 35,000 करोड़ रुपए के निवेश समझौते की पहल की है .

आपको जानकारी दे दें कि यह समझौता यादव और महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) के बीच है, जिससे करीब 10,000 नौकरियां पैदा होंगी.यह कारखाना पालघर जिले में 157 एकड़ में खोला जाएगा. कभी अपनी छत पर विमान का प्रयोग करने वाले सतारा जिले के अमोल यादव अब व्यावसायिक रूप से 6 और 19 सीटों वाले विमानों का निर्माण करेंगे.उन्होंने अपने इस सपने को सीएम फडणवीस के सामने प्रकट किया था , जिस पर उन्होंने हर मदद उपलब्ध कराने का वादा किया था. सीएम देश का पहला विमान कारखाना महाराष्ट्र में लगाना चाहते हैं.

इस बारे में यादव ने बताया कि मैक इन इण्डिया के तहत उनकी जिम्मेदारी विमान बनाने और कारखाना स्थापित करने की है.इसके अलावा उन्हें देश में और स्थापित किए जाने वाले विमान संयंत्रों की देखरेख भी करनी होगी. 35,000 करोड़ रुपए के निवेश में अकेली कम्पनी का न होकर सहायक कंपनियों के लिए भी होगा. पहले चरण में 19 सीट वाले विमान का एक प्रोटोटाइप और तीन ऐसे ही विमान उत्पादन के लिए तुरंत 200 करोड़ रुपए के निवेश की आवश्यकता होगी.

यह भी देखें

घोटालो पर FICCI का सरकार को सुझाव

रोटोमैक लोन घोटाले का काला सच