भूकंप से हिंदू मंदिरों को भारी नुकसान

Apr 26 2015 08:45 PM

नेपाल की 80 फीसदी आबादी में से करीब 2.9 करोड़ लोग हिंदू हैं। यहां ईसाइयों की आबादी 10 फीसदी और मुस्लिमों की चार फीसदी है। 'एबीसी न्यूज ऑस्ट्रेलिया' की रिपोर्टर सियोभान हेएनू ने अंग्रेजी चैनल 'सीएनएन' को बताया कि जिस समय भूकंप आया, वह काठमांडू स्थित एक प्राचीन मंदिर के परिसर में थी। उनके ईदगिर्द कुछ मंदिर ताश के पत्तों की तरह नीचे आ गिरे। 

धरहरा स्थित विख्यात भीमसेन टॉवर सहित सदियों पुराने ऐतिहासिक स्मारक उस जलजले में मलबे में तब्दील हो गए। दैनिक समाचारपत्र कांतिपुर के अनुसार, पाटन में चार नारायण मंदिर, तलेजू मंदिर, हरिशंकर मंदिर और उमा महेश्वर मंदिर को तहस-नहस हो गया। वहीं बंगमती में मछिंद्रनाथ मंदिर का भी यही हाल है। समाचारपत्र की ओर से कहा गया कि भक्तपुर में फासी देवा मंदिर, चारधाम मंदिर सहित कई स्मारक और 17वीं सदी के वत्सल दुर्गा मंदिर पूरी या आंशिक रूप से बर्बाद हो गए। 

समाचारपत्र ने इतिहासकार पुरुषोत्तम लोचन श्रेष्ठ के हवाले से कहा कि घाटी के बाहर गोरखा में मनकामना मंदिर, कवरेपालन चौक में पालनचौक भगवती, पल्पा में रानी महल, जनकपुर में जानकी मंदिर, मकवानपुर में चूड़ियामाई, दोलखा में दोलखा भीमसंस्थान और नुवाकोट दरबार को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। उन्होंने कहा, "हमने काठमांडू, भक्तपुर और ललितपुर में विश्व धरोहर स्थलों के रूप में घोषित अधिकांश स्मारकों को खो दिया है। उन्हें उनके मूल रूप में नहीं लाया जा सकता।"