Share:
कैल्सीफेरोल की कमी से बच्चे को हो सकता है रिकेट्स, इन 5 फूड्स को खिलाने से मिलेगा आराम
कैल्सीफेरोल की कमी से बच्चे को हो सकता है रिकेट्स, इन 5 फूड्स को खिलाने से मिलेगा आराम

विटामिन डी की कमी बच्चों में बढ़ती चिंता का विषय है और इसका उनके स्वास्थ्य पर गंभीर परिणाम हो सकता है। विटामिन डी की कमी के सबसे गंभीर परिणामों में से एक रिकेट्स का विकास है, एक ऐसी स्थिति जो हड्डियों को कमजोर करती है और विभिन्न जटिलताओं को जन्म दे सकती है। इस लेख में, हम विटामिन डी के महत्व, रिकेट्स को रोकने में इसकी भूमिका और पांच खाद्य पदार्थों के बारे में जानेंगे जो इस कमी को कम करने में मदद कर सकते हैं।

विटामिन डी की कमी को समझना

सनशाइन विटामिन

विटामिन डी, जिसे अक्सर "सनशाइन विटामिन" कहा जाता है, शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। यह कैल्शियम के अवशोषण में सहायता करके हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब शरीर में पर्याप्त विटामिन डी की कमी होती है, तो यह कैल्शियम को कुशलता से अवशोषित नहीं कर पाता है, जिससे हड्डियां कमजोर और भंगुर हो जाती हैं, जिसे रिकेट्स के नाम से जाना जाता है।

विटामिन डी की कमी के सामान्य कारण

ऐसे कई कारक हैं जो बच्चों में विटामिन डी की कमी में योगदान करते हैं:

1. सीमित सूर्य एक्सपोज़र

सूरज की रोशनी का अपर्याप्त संपर्क विटामिन डी की कमी के प्राथमिक कारणों में से एक है। जो बच्चे अपना अधिकांश समय घर के अंदर बिताते हैं या सीमित धूप वाले क्षेत्रों में रहते हैं, उन्हें अधिक खतरा होता है।

2. आहार संबंधी विकल्प

विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों की कमी वाले आहार भी इसकी कमी में योगदान कर सकते हैं। कई प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ इस आवश्यक पोषक तत्व से रहित हैं।

3. चिकित्सीय स्थितियाँ

कुछ चिकित्सीय स्थितियां शरीर की विटामिन डी को अवशोषित करने की क्षमता में हस्तक्षेप कर सकती हैं, जैसे सीलिएक रोग, क्रोहन रोग और सिस्टिक फाइब्रोसिस।

4. गहरी त्वचा का रंग

गहरे रंग की त्वचा वाले व्यक्तियों में सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने पर कम विटामिन डी उत्पन्न होता है, जिससे उनमें कमी होने की संभावना अधिक होती है।

रिकेट्स के परिणाम

रिकेट्स का बच्चे के स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है:

1. अस्थि विकृति

रिकेट्स से पीड़ित बच्चों में हड्डी की विकृति विकसित हो सकती है, जैसे झुके हुए पैर और मुड़ी हुई रीढ़, जो उनकी गतिशीलता और समग्र स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है।

2. विलंबित विकास

रिकेट्स के कारण बच्चों के विकास में देरी हो सकती है, ऊंचाई और वजन दोनों के मामले में।

3. मांसपेशियों में कमजोरी

मांसपेशियों में कमजोरी रिकेट्स का एक सामान्य लक्षण है, जिससे बच्चों के लिए शारीरिक गतिविधियों में संलग्न होना चुनौतीपूर्ण हो जाता है।

विटामिन डी की कमी से निपटने के लिए खाद्य पदार्थ

विटामिन डी की कमी को रोकने या कम करने और बच्चों में रिकेट्स के खतरे को कम करने के लिए, उनके आहार में निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को शामिल करने पर विचार करें:

1. वसायुक्त मछली

सैल्मन, मैकेरल और टूना जैसी वसायुक्त मछलियाँ विटामिन डी के उत्कृष्ट स्रोत हैं। बस एक छोटी सी मात्रा इस महत्वपूर्ण पोषक तत्व की एक महत्वपूर्ण मात्रा प्रदान कर सकती है।

2. फोर्टिफाइड फूड्स

कई डेयरी उत्पाद, अनाज और संतरे का रस विटामिन डी से भरपूर होते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए लेबल की जाँच करें कि आपके बच्चे को इस पोषक तत्व का अतिरिक्त लाभ मिल रहा है।

3. अंडे की जर्दी

अंडे की जर्दी विटामिन डी का एक प्राकृतिक स्रोत है। इन्हें तले हुए अंडे से लेकर आमलेट तक विभिन्न व्यंजनों में आसानी से शामिल किया जा सकता है।

4. पनीर

पनीर, विशेष रूप से स्विस और चेडर, में उचित मात्रा में विटामिन डी होता है। यह आपके बच्चे के सेवन को बढ़ाने का एक स्वादिष्ट तरीका है।

5. कॉड लिवर ऑयल

हालांकि यह सबसे स्वादिष्ट विकल्प नहीं है, कॉड लिवर ऑयल एक विटामिन डी पावरहाउस है। आप इसे तरल या कैप्सूल के रूप में पा सकते हैं। यह सुनिश्चित करना कि आपके बच्चे को पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी मिले, उनके समग्र स्वास्थ्य और कल्याण के लिए आवश्यक है। विटामिन डी की कमी से रिकेट्स जैसी गंभीर स्थिति हो सकती है, जिसके दीर्घकालिक परिणाम हो सकते हैं। उनके आहार में विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करके, आप इस कमी को रोकने में मदद कर सकते हैं और उनकी वृद्धि और विकास में सहायता कर सकते हैं।

स्वादिष्ट घर की बना ड्राई फ्रूट खीर: एक पौष्टिक और मलाईदार मिठाई

बादाम खाने का सही तरीका: लाभ, सावधानियां और संभावित नुकसान

घर पर ऐसे बनाएं स्वादिष्ट बर्गर, आ जाएगा मजा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -