खाद्य उत्पाद विकसित करेगा DRDO, बाबा रामदेव की कंपनी के साथ करार

नई दिल्ली : हथियारों को विकसित करने वाला रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन अब खाद्य उत्पाद भी तैयार करने जा रहा है। जी हां, खाद्य उत्पाद। डीआरडीओ का ऐसा प्रयास है जिससे ठंडे प्रदेशों में अपेक्षाकृत ताज़े खाद्य पदार्थ उपलब्ध करवाए जा सकें। इसके लिए रक्षा अनुसंधान संगठन अपने सहयोगी संगठन डिफेंस इंस्टीट्युट आॅफ हाई एल्टिट्युड रिसर्च के माध्यम से पहल करने जा रहा है। DRDO अपने इस काम के लिए योग गुरू बाबा रामदेव की संस्था पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के साथ काम करेगा। हाल ही में DRDO और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के बीच करार किया गया।

मिली जानकारी के अनुसार तकनीक के हस्तांतरण के तहत DRDO फिक्की एटक कार्यक्रम के अंतर्गत करार किया गया। जिसमें कहा गया कि ऐसी प्रौद्योगिकियों की पहचान की गई जिसके माध्यम से फल सीबकथोर्न के उत्पादों को तैयार किया जाएगा। मामले में अधिकारियों ने कहा कि रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर और योग गुरू मनोहर पर्रिकर की मौजूदगी में DRDO ने यह करार किया है।

जिसकी पहचान भारत और विदेश में वाणिज्यिक स्वरूप में उपयोग किया जा सकता है। इस तरह के कार्यक्रम का प्रमुख लक्ष्य तकनीकों का लाभ उठाना है। उल्लेखनीय है कि डीआईएचएआर और डीआरडीओ की प्रयोगशाला में ठंडे क्षेत्र में विकसित किए जाने वाले कृषि और पशु आधारित उत्पादों की तकनीक को विकसित करने का कार्य किया जाता है। जिससे इन क्षेत्रों में ताज़ा भोजन उपलब्ध करवाया जा सके। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -