क्या आप चावल पकाने का सही तरीका जानते हैं? ऐसा करने से शुगर भी रहेगी कंट्रोल
क्या आप चावल पकाने का सही तरीका जानते हैं? ऐसा करने से शुगर भी रहेगी कंट्रोल
Share:

चावल दुनिया भर में कई आहारों में मुख्य है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि चावल पकाने का तरीका आपके रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकता है? आइए चावल पकाने की सही विधि के बारे में जानें जो न केवल इसे स्वादिष्ट बनाती है बल्कि शुगर को नियंत्रित करने में भी मदद करती है।

चावल को सही तरीके से पकाना क्यों ज़रूरी है

रक्त शर्करा पर प्रभाव

चावल, खास तौर पर सफ़ेद चावल, में ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) बहुत ज़्यादा होता है, जिसका मतलब है कि यह रक्त शर्करा के स्तर में तेज़ी से वृद्धि कर सकता है। चावल को पकाने के तरीके को नियंत्रित करने से इसका जीआई कम करने में मदद मिल सकती है, जिससे यह उन लोगों के लिए एक स्वस्थ विकल्प बन जाता है जो अपने चीनी सेवन के बारे में चिंतित हैं।

पोषक तत्व प्रतिधारण

सही तरीके से पकाए गए चावल में ज़्यादा पोषक तत्व मौजूद रहते हैं, जिससे आपको ज़्यादा से ज़्यादा स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। गलत तरीके से पकाने से पोषक तत्वों की कमी हो सकती है, जिससे इस मुख्य भोजन का कुल मूल्य कम हो सकता है।

चावल की सही किस्म का चयन

भूरा बनाम सफेद चावल

ब्राउन राइस एक साबुत अनाज है और इसमें चोकर और अंकुर होते हैं, जो फाइबर और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। दूसरी ओर, सफ़ेद चावल में ये हिस्से निकाल दिए जाते हैं, जिससे जीआई बढ़ जाता है। ब्राउन राइस चुनना एक स्वास्थ्यवर्धक विकल्प हो सकता है।

विशेष चावल की किस्में

बासमती या चमेली चावल का उपयोग करने पर विचार करें। बासमती चावल, विशेष रूप से, अन्य सफेद चावल किस्मों की तुलना में कम जीआई है। काले या लाल चावल जैसे विशेष चावल भी अधिक फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट प्रदान करते हैं।

खाना पकाने से पहले तैयारी

चावल को धोना

खाना पकाने से पहले चावल को हमेशा अच्छी तरह से धो लें। इससे अतिरिक्त स्टार्च को हटाने में मदद मिलती है, जो चावल को चिपचिपा बना सकता है और उसका जीआई बढ़ा सकता है। तब तक धोएँ जब तक पानी साफ न हो जाए।

चावल भिगोना

चावल को 30 मिनट से एक घंटे तक भिगोने से इसमें स्टार्च की मात्रा भी कम हो जाती है, जिससे रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि होने की संभावना कम हो जाती है।

उत्तम खाना पकाने की विधि

उबालने की विधि

  1. पानी की मात्रा मापें: 1 भाग चावल और 2 भाग पानी का अनुपात इस्तेमाल करें। चावल के प्रकार के आधार पर इसे समायोजित करें।
  2. पहले पानी उबालें: चावल डालने से पहले पानी को उबाल लें। इससे तापमान एक समान बना रहता है और खाना भी अच्छी तरह पकता है।
  3. चावल डालें: धुले और भिगोये हुए चावल को उबलते पानी में डालें।
  4. आंच धीमी कर दें और धीमी आंच पर पकाएं: जब पानी फिर से उबलने लगे, तो आंच धीमी कर दें, बर्तन को ढक दें और धीमी आंच पर पकने दें।
  5. पकाने का समय: सफ़ेद चावल के लिए, इसमें आमतौर पर 15-20 मिनट लगते हैं। भूरे चावल के लिए 30-40 मिनट लग सकते हैं।

भाप विधि

  1. स्टीमर तैयार करें: पानी के साथ एक स्टीमर तैयार करें।
  2. चावल को भाप वाली टोकरी में रखें: सुनिश्चित करें कि चावल समान रूप से फैला हुआ है।
  3. चावल को भाप में पकाएं: चावल के प्रकार के आधार पर, इसे लगभग 20-30 मिनट तक भाप में पकाएं।

चावल पकाने की विधि

  1. निर्माता के निर्देशों का पालन करें: प्रत्येक चावल कुकर अलग होता है, इसलिए विशिष्ट दिशानिर्देशों का पालन करना आवश्यक है।
  2. सही जल अनुपात का उपयोग करें: आमतौर पर, यह चावल कुकर के अंदर अंकित होता है।

स्वाद और पोषण बढ़ाना

मसाले और जड़ी बूटियाँ मिलाना

स्वाद बढ़ाने और स्वास्थ्य लाभ बढ़ाने के लिए हल्दी जैसे मसाले या धनिया जैसी जड़ी-बूटियाँ मिलाएँ। उदाहरण के लिए, हल्दी में सूजन-रोधी गुण होते हैं।

सब्जियां शामिल करें

अपने चावल में मटर, गाजर या पालक जैसी सब्ज़ियाँ मिलाएँ। इससे न केवल पोषण मूल्य बढ़ता है बल्कि पकवान ज़्यादा पेट भरने वाला भी बनता है।

ठंडा करना और गर्म करना: जादुई तरकीब

ठंडा चावल

चावल को पकाने के बाद ठंडा करके फिर से गर्म करने से इसका GI काफी हद तक कम हो सकता है। इस प्रक्रिया से प्रतिरोधी स्टार्च की मात्रा बढ़ जाती है, जो कम पचने योग्य होता है और इस प्रकार रक्त शर्करा के बढ़ने की संभावना कम होती है।

इसे कैसे करना है

  1. शीघ्र ठंडा करें: चावल को शीघ्र ठंडा करने के लिए उसे बेकिंग शीट पर फैला दें।
  2. फ्रिज में रखें: ठंडे चावल को कम से कम 12 घंटे के लिए फ्रिज में रखें।
  3. ठीक से गर्म करें: जब खाने के लिए तैयार हो जाएं, तो चावल को अच्छी तरह से गर्म करें।

संतुलित भोजन में चावल परोसना

प्रोटीन के साथ युग्मन

अपने चावल को प्रोटीन के स्रोत जैसे बीन्स, टोफू या चिकन के साथ खाएं। प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को धीमा करने में मदद करता है, जिससे रक्त शर्करा में धीरे-धीरे वृद्धि होती है।

स्वस्थ वसा शामिल करें

जैतून का तेल, नट्स या एवोकाडो जैसे स्वस्थ वसा को शामिल करें। वसा कार्बोहाइड्रेट अवशोषण को भी धीमा कर देती है और आपको लंबे समय तक भरा रखती है।

फाइबर जोड़ना

अपने चावल के व्यंजनों में उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ जैसे सब्ज़ियाँ या फलियाँ शामिल करें। फाइबर रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में मदद करता है और पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

सामान्य गलतियाँ जिनसे बचना चाहिए

चावल को न धोना

धोने के चरण को छोड़ देने से अतिरिक्त स्टार्च बच सकता है, जिससे चावल चिपचिपा हो जाएगा और उसका जीआई बढ़ जाएगा।

अधिक पकाना

चावल को अधिक पकाने से इसकी संरचना नष्ट हो सकती है, जिससे इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) बढ़ सकता है और यह कम पौष्टिक हो सकता है।

ग़लत जल अनुपात

बहुत अधिक या बहुत कम पानी का उपयोग करने से चावल की बनावट और पोषण गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है।

अच्छी तरह से पके हुए चावल के स्वास्थ्य लाभ

पाचन स्वास्थ्य में सुधार

उचित तरीके से पका हुआ चावल, विशेषकर जब फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों के साथ खाया जाए, तो पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।

बेहतर रक्त शर्करा नियंत्रण

इन खाना पकाने के तरीकों का पालन करने से रक्त शर्करा के स्तर को कम रखने में मदद मिलती है, जिससे इंसुलिन संवेदनशीलता वाले लोगों के लिए भी चावल एक व्यवहार्य विकल्प बन जाता है।

पोषक तत्वों का बेहतर अवशोषण

चावल को सही तरीके से पकाने से आप इस मुख्य भोजन से अधिक पोषक तत्व अवशोषित कर पाते हैं, जिससे आपका समग्र स्वास्थ्य बेहतर होता है।

चावल का सही तरीके से आनंद लें

चावल को इस तरह से पकाना कि शुगर लेवल नियंत्रित रहे, सरल और प्रभावी है। चावल की सही किस्म चुनकर, उसे धोकर भिगोकर और सही तरीके से पकाने की तकनीक का इस्तेमाल करके, आप ब्लड शुगर बढ़ने की चिंता किए बिना इस मुख्य व्यंजन का आनंद ले सकते हैं। इसके अलावा, ठंडा करने और फिर से गर्म करने की तकनीक को शामिल करने से स्वास्थ्य लाभ और भी बढ़ सकते हैं। संतुलित और पौष्टिक भोजन के लिए अपने चावल को प्रोटीन, स्वस्थ वसा और फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों के साथ मिलाएँ। इन सुझावों के साथ, आप अपने चावल के व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं और अपने ब्लड शुगर पर बेहतर नियंत्रण बनाए रख सकते हैं।

दो दिन की छुट्टी कहीं ठंडी बिताना चाहते हैं? जानिए कहां जाना है

रामलला के दर्शन करने के बाद आप अयोध्या के पास के कर सकते हैं इन हिल स्टेशनों के दर्शन

गोवा-शिमला के खर्च पर आप इस देश की यात्रा कर सकते हैं, होटल के किराए भी हैं बहुत कम

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -