Share:
क्या आप भी करवट लेकर सोते है? तो जरूर पढ़ लें ये खबर
क्या आप भी करवट लेकर सोते है? तो जरूर पढ़ लें ये खबर

स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखने के लिए रात में अच्छी नींद लेना महत्वपूर्ण है। उचित नींद न केवल शरीर को तरोताजा करती है बल्कि मानसिक स्वास्थ्य में भी योगदान देती है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि व्यक्ति पूरे दिन ऊर्जावान महसूस करता है। हालाँकि, कुछ लोगों को नींद के दौरान या जागने पर अपने हाथों, गर्दन और पीठ के निचले हिस्से में असुविधा, कठोरता या दर्द का अनुभव होता है। अक्सर, ये मुद्दे खराब नींद की मुद्रा से जुड़े होते हैं।

आइए सोने की सही स्थिति अपनाने के महत्व का पता लगाएं:
करवट लेकर सोना:
भ्रूण की स्थिति में सोने से बचें:

भ्रूण की स्थिति में लगातार करवट लेकर सोना आदर्श नहीं है। यह आसन रीढ़ की हड्डी को मोड़ सकता है, जिससे जोड़ों में दर्द और संभावित कूल्हे संरेखण समस्याएं हो सकती हैं। इसके बजाय, रीढ़ की हड्डी को सीधा रखने की कोशिश करें और अत्यधिक झुकने या मुड़ने से बचें।

घुटनों के बीच तकिया रखें:
उचित संरेखण का समर्थन करने के लिए, घुटनों के बीच एक तकिया रखने की सलाह दी जाती है। यह कूल्हों के बीच उचित दूरी बनाए रखने में मदद करता है और पीठ के निचले हिस्से में तनाव को रोकता है।

पेट के बल सोना:
हर किसी के लिए अनुशंसित नहीं:

आमतौर पर पेट के बल सोने की सलाह नहीं दी जाती है क्योंकि इससे गर्दन और रीढ़ पर दबाव पड़ सकता है, जिससे संभावित रूप से असुविधा और दर्द हो सकता है। हालाँकि, यदि कोई इस स्थिति को पसंद करता है, तो सिर के लिए पतला तकिया या बिल्कुल भी तकिया का उपयोग करने से तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है।

श्रोणि के नीचे तकिये का प्रयोग करें:
पेट के बल सोने वालों के लिए, श्रोणि के नीचे एक पतला तकिया रखने से रीढ़ की हड्डी को अधिक तटस्थ संरेखण बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

पीठ के बल सोना:
तकिए से गर्दन को सहारा दें:

पीठ के बल सोना सबसे स्वस्थ स्थितियों में से एक माना जाता है। यह रीढ़ की हड्डी की प्राकृतिक वक्रता को बनाए रखने में मदद करता है। इस स्थिति के लिए ऐसे तकिये का उपयोग करना महत्वपूर्ण है जो गर्दन और सिर को बहुत अधिक ऊपर उठाए बिना पर्याप्त रूप से सहारा देता हो।

घुटनों के नीचे तकिया रखें:
रीढ़ की हड्डी के संरेखण को और बढ़ावा देने के लिए, घुटनों के नीचे एक छोटा तकिया रखने से पीठ के निचले हिस्से पर दबाव से राहत मिल सकती है।

सही तकिया चुनना:
अत्यधिक मोटे या पतले तकिए से बचें:

तकिए का चुनाव मायने रखता है। अत्यधिक मोटे या पतले तकिये गर्दन में दर्द और परेशानी पैदा कर सकते हैं। ऐसा तकिया चुनें जो सिर को रीढ़ की हड्डी की सीध में रखे।

गद्दे की मजबूती पर विचार करें:
गद्दे की मजबूती भी एक भूमिका निभाती है। बहुत नरम या बहुत सख्त गद्दा पीठ दर्द का कारण बन सकता है। ऐसा संतुलन ढूँढ़ना जो पर्याप्त समर्थन और आराम प्रदान करे, महत्वपूर्ण है।

संक्षेप में, आदर्श नींद की स्थिति वह है जो रीढ़ की प्राकृतिक वक्रता को बनाए रखती है और शरीर का उचित संरेखण सुनिश्चित करती है। सोने की विभिन्न मुद्राओं और तकिये के स्थान के साथ प्रयोग करने से व्यक्तियों को यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि उनके लिए सबसे अच्छा क्या काम करता है। इसके अतिरिक्त, व्यक्तिगत प्राथमिकताओं के अनुरूप गुणवत्ता वाले गद्दे में निवेश करना अच्छी रात की नींद और समग्र कल्याण में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है।

क्या लाडले को हर मुद्दे पर आता है गुस्सा करता है हर बात का विरोध तो इस तरह करें हैंडल

आंखों की थकान कैसे दूर करें? 5 एक्सरसाइज की मदद लें, बरकरार रहेगी रोशनी

जानिए पीरियड्स के दौरान लड़कियों को गुस्सा आने के पीछे की वजह?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -