क्या आपको भी देर से उठने की आदत है? इन बीमारियों का रहता है खतरा
क्या आपको भी देर से उठने की आदत है? इन बीमारियों का रहता है खतरा
Share:

देर से उठना, कई व्यक्तियों की एक आम आदत है, जिसका तात्पर्य सुबह देर से जागना या दोपहर में भी उठना है। हालांकि कभी-कभी देर से सुबह उठना हानिरहित लग सकता है, लेकिन आदतन देर से उठने से स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

सर्कैडियन लय व्यवधान

देर से उठने से जुड़ी प्राथमिक चिंताओं में से एक शरीर की प्राकृतिक सर्कैडियन लय का विघटन है। सर्कैडियन लय विभिन्न शारीरिक प्रक्रियाओं को नियंत्रित करती है, जिसमें नींद-जागने के चक्र, हार्मोन स्राव और चयापचय शामिल हैं।

मोटापे का बढ़ता ख़तरा

शोध से पता चलता है कि जो व्यक्ति लगातार देर से उठते हैं उनमें वजन बढ़ने और मोटापे का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है। बाधित नींद के पैटर्न से भूख को नियंत्रित करने वाले हार्मोन, जैसे घ्रेलिन और लेप्टिन में बदलाव हो सकता है, जिससे संभावित रूप से कैलोरी की मात्रा बढ़ सकती है और वजन बढ़ने को बढ़ावा मिल सकता है।

चयापचयी लक्षण

देर से उठने वालों में मेटाबॉलिक सिंड्रोम विकसित होने का खतरा भी अधिक हो सकता है, जो ऐसी स्थितियों का एक समूह है जो हृदय रोग, स्ट्रोक और टाइप 2 मधुमेह की संभावना को बढ़ाता है। मेटाबॉलिक सिंड्रोम के घटकों में उच्च रक्तचाप, उच्च रक्त शर्करा स्तर, असामान्य कोलेस्ट्रॉल स्तर और पेट की अतिरिक्त चर्बी शामिल हैं।

बिगड़ा हुआ संज्ञानात्मक कार्य

लगातार देर से उठने से संज्ञानात्मक कार्य और मानसिक प्रदर्शन ख़राब हो सकता है। नींद की कमी और अनियमित नींद का पैटर्न याददाश्त, एकाग्रता और निर्णय लेने की क्षमताओं को प्रभावित कर सकता है, जिससे उत्पादकता और जीवन की समग्र गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है।

मनोवस्था संबंधी विकार

देर से उठने के कारण होने वाली नींद की गड़बड़ी को अवसाद और चिंता जैसे मूड विकारों के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है। भावनात्मक भलाई के लिए पर्याप्त और लगातार नींद आवश्यक है, और नींद के पैटर्न में व्यवधान मूड विकारों के लक्षणों को बढ़ा सकता है।

बाधित सामाजिक और कामकाजी जीवन

देर से उठने से सामाजिक और कार्य शेड्यूल भी बाधित हो सकता है, जिससे प्रतिबद्धताओं और जिम्मेदारियों को बनाए रखने में कठिनाई हो सकती है। जो व्यक्ति देर से उठते हैं उन्हें अपनी दिनचर्या को परिवार के सदस्यों, सहकर्मियों या साथियों के साथ तालमेल बिठाने में कठिनाई हो सकती है, जिससे संभावित रूप से संघर्ष और तनाव हो सकता है।

पुरानी बीमारियों का खतरा बढ़ गया

हृदय रोग, मधुमेह और कुछ कैंसर जैसी पुरानी बीमारियाँ अनियमित नींद के पैटर्न और सर्कैडियन लय व्यवधान से जुड़ी हुई हैं। लगातार देर तक जागना समय के साथ इन स्थितियों के विकास या बिगड़ने में योगदान दे सकता है।

स्वस्थ नींद की दिनचर्या स्थापित करने के लिए युक्तियाँ

हालांकि देर से उठने की आदत को छोड़ना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, कुछ रणनीतियों को अपनाने से स्वस्थ नींद की दिनचर्या स्थापित करने में मदद मिल सकती है:

सोने और जागने के समय को एक समान बनाए रखें

लगातार सोने और जागने के समय सहित एक नियमित नींद कार्यक्रम स्थापित करने से शरीर की आंतरिक घड़ी को विनियमित करने और समग्र नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

सोने के समय की आरामदायक दिनचर्या बनाएं

सोने से पहले शांत करने वाली गतिविधियों में संलग्न रहें, जैसे पढ़ना, सुखदायक संगीत सुनना, या गहरी साँस लेने या ध्यान जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास करना, ताकि आपके शरीर को संकेत मिल सके कि यह शांत होने का समय है।

स्क्रीन पर एक्सपोज़र सीमित करें

स्मार्टफोन, टैबलेट और कंप्यूटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के संपर्क में आना कम करें, खासकर सोने से पहले, क्योंकि स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी मेलाटोनिन उत्पादन में बाधा डाल सकती है और नींद में खलल डाल सकती है।

नींद के अनुकूल वातावरण बनाएं

आरामदायक गद्दे और तकिए सुनिश्चित करके, कमरे के तापमान को नियंत्रित करके और शोर और प्रकाश की गड़बड़ी को कम करके अपने शयनकक्ष को सोने के लिए अनुकूल बनाएं।

नींद की स्वच्छता को प्राथमिकता दें

बेहतर नींद की गुणवत्ता को बढ़ावा देने के लिए अच्छी नींद संबंधी स्वच्छता की आदतें अपनाएं, जैसे कि सोने से पहले कैफीन और भारी भोजन से परहेज करना, नियमित रूप से व्यायाम करना लेकिन सोने से बहुत करीब नहीं और दिन के दौरान झपकी को सीमित करना। निष्कर्ष में, हालांकि देर से उठने का प्रलोभन प्रबल हो सकता है, लेकिन स्वास्थ्य और कल्याण के लिए इसके संभावित जोखिमों को पहचानना आवश्यक है। नियमित नींद कार्यक्रम को प्राथमिकता देकर और स्वस्थ नींद की आदतों को अपनाकर, व्यक्ति देर से उठने के प्रतिकूल प्रभावों को कम कर सकते हैं और अपने जीवन की समग्र गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं।

इस समय नीम की पत्तियां चबाने से कई बीमारियां दूर होंगी, इन्हें खाने का ये है सही तरीका

आपकी आंखें बता रही हैं कि बढ़ रहा है थायराइड, जानिए क्या हैं चेतावनी के संकेत

गर्भधारण करने से पहले अपनी डाइट में ऐसे बदलाव करें, प्रेग्नेंसी के दौरान नहीं होगी कोई समस्या

Tags:
Share:
रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -