आम खाने से पहले कर लें ये काम, नहीं तो सेहत को हो सकता है बड़ा नुकसान
आम खाने से पहले कर लें ये काम, नहीं तो सेहत को हो सकता है बड़ा नुकसान
Share:

आम, अपने रसीले गूदे और मीठी सुगंध के साथ, दुनिया भर में कई लोगों द्वारा पसंद किया जाने वाला एक प्रिय फल है। चाहे ताजा खाया जाए, स्मूदी में मिलाया जाए, या नमकीन व्यंजनों में मिलाया जाए, आम उष्णकटिबंधीय स्वाद का एक विस्फोट प्रदान करता है जो स्वाद कलियों को लुभाता है। हालांकि, इस उष्णकटिबंधीय आनंद का आनंद लेने से पहले, आमों के सेवन से जुड़े संभावित स्वास्थ्य जोखिमों को समझना आवश्यक है, खासकर जब इसे ठीक से संभाला या खाया न जाए।

अपराधी: उरुशीओल

इस समस्या का मूल कारण उरुशिओल है, जो आम के पेड़ के विभिन्न भागों में पाया जाने वाला एक विषैला यौगिक है, जिसमें फल की त्वचा, रस और पत्तियाँ शामिल हैं। उरुशिओल एलर्जी प्रतिक्रियाओं के लिए कुख्यात है, जो सबसे अधिक ज़हरीली आइवी और ज़हरीली ओक से जुड़ी है। हालाँकि हर कोई उरुशिओल के प्रति संवेदनशील नहीं होता है, लेकिन जो लोग इसके प्रति संवेदनशील होते हैं, उन्हें हल्की जलन से लेकर गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाओं तक कई तरह के लक्षण अनुभव हो सकते हैं।

आम से एलर्जी के खतरे

यूरुशिओल से एलर्जी वाले व्यक्तियों के लिए आम का सेवन प्रतिकूल प्रतिक्रिया उत्पन्न कर सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  1. त्वचा में जलन: आम के छिलके या रस के सीधे संपर्क में आने से खुजली, लालिमा और छाले हो सकते हैं, जो ज़हर आइवी के दाने के समान होते हैं।

  2. ओरल एलर्जी सिंड्रोम: कुछ लोगों को आम खाने के बाद होंठ, मुंह और गले में खुजली या सूजन का अनुभव हो सकता है, जिसे ओरल एलर्जी सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है।

  3. प्रणालीगत एलर्जिक प्रतिक्रिया: गंभीर मामलों में, आम खाने से प्रणालीगत एलर्जिक प्रतिक्रिया हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप पित्ती, सांस लेने में कठिनाई और एनाफाइलैक्सिस जैसे लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं, जो जीवन के लिए खतरा पैदा करने वाली आपातस्थिति है।

आम से होने वाली एलर्जी से बचाव

यद्यपि आम से एलर्जी चिंताजनक हो सकती है, फिर भी व्यक्ति जोखिम को कम करने के लिए कुछ कदम उठा सकता है:

  1. सावधानी से छीलना और संभालना: आम तैयार करते समय, अपनी त्वचा को उरुशिओल के संभावित संपर्क से बचाने के लिए दस्ताने पहनें। फलों को बहते पानी के नीचे अच्छी तरह से धोएँ और सावधानी से छीलें, रस के संपर्क से बचें।

  2. आमों को पकाना: आमों को पकाने से यूरुशिओल निष्क्रिय हो सकता है, जिससे एलर्जी की संभावना कम हो जाती है। कच्चे आमों को खाने के बजाय उन्हें पकाकर खाने पर विचार करें।

  3. संवेदनशीलता के लिए परीक्षण: यदि आपको संदेह है कि आपको आम से एलर्जी हो सकती है, तो परीक्षण और मार्गदर्शन के लिए किसी एलर्जिस्ट से परामर्श करें। वे आपकी संवेदनशीलता की सीमा निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं और सुरक्षित उपभोग के लिए सिफारिशें दे सकते हैं।

क्रॉस-रिएक्टिविटी से सावधान रहें

आम से एलर्जी वाले व्यक्तियों को अन्य खाद्य पदार्थों, विशेष रूप से आम के समान वनस्पति परिवार के काजू और पिस्ता जैसे खाद्य पदार्थों के साथ क्रॉस-रिएक्टिविटी से भी सावधान रहना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों में समान प्रोटीन होते हैं जो संवेदनशील व्यक्तियों में एलर्जी प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकते हैं।

आम का सुरक्षित आनंद लें

जबकि आम उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों का एक लुभावना स्वाद प्रदान करते हैं, संभावित स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में जागरूक होना महत्वपूर्ण है, खासकर उन लोगों के लिए जिन्हें आम से एलर्जी है। दस्ताने पहनने, आमों को सावधानी से छीलने और ज़रूरत पड़ने पर एलर्जी विशेषज्ञ से परामर्श करने जैसी सावधानियों को अपनाकर, लोग अपने स्वास्थ्य से समझौता किए बिना सुरक्षित रूप से आम का आनंद लेना जारी रख सकते हैं।

जून में कर्नाटक की इन जगहों की सैर करें, एक है अक्षय कुमार का फेवरेट

डायबिटीज के मरीज यात्रा के दौरान कैसे रखें सावधान, विशेषज्ञों से जानें

यात्रा करते समय इन बातों का जरूर रखें ध्यान, नहीं तो आपकी त्वचा को हो सकती है नुकसान

Share:
रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -