श्रीमद्भगवद् गीता पढ़ने से नहीं होता डायबिटीज

Apr 24 2015 07:36 PM
श्रीमद्भगवद् गीता पढ़ने से नहीं होता डायबिटीज
style="text-align: justify;">भोपाल/मध्यप्रदेश : श्रीमद्भगवद गीता पढ़ने से न तो नज़र का चश्मा लगता है और न ही डायबिटीज होता है। जो भी व्यक्ति गीता पढ़ता है वह प्रसन्न रहता है। यह बात मध्यप्रदेश के गृहमंत्री बाबूलाल गौर ने कही। दरअसल प्रदेश के गृहमंत्री श्री गौर गीता फेस्ट में उपस्थितों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने श्रीमद्भगद् गीता पढ़ने से सकारात्मकता बढ़ने की बात भी कही। समारोह में मौजूद हरियाणा के राज्यपाल कप्तानसिंह सोलंकी ने कहा कि जो भारत को ही नहीं जानता उसे भारत को जानने का अधिकार नहीं है। 

यदि भारत में रहना है तो उसे गीता को समझना होगा। उन्होंने कहा कि लाल परेड मैदान पर नर्मदे हर सेवा न्यास ने गीता फेस्ट आयोजित किया है यह बेहद सराहनीय है, उन्होंने कहा कि गीता के पाठ घर से ही प्रारंभ होना चाहिए। यह बेहद प्रेरणादायी है। मंत्रियों से मप्र में गीता को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने की बात कही गई तो वे इस सवाल को टाल गए।