SBI ने कहा की ऋण उठाव बढ़ने तक ब्याज दरें स्थिर रहने की संभावना
SBI  ने कहा की ऋण उठाव बढ़ने तक ब्याज दरें स्थिर रहने की संभावना
Share:

स्टेट बैंक की 60वीं सालाना आम बैठक में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए भट्टाचार्य ने कहा है कि बैंकों द्वारा आधार दर में और कटौती तभी संभव है जब कर्ज के उठाव में जोरदार तेजी आयेगी और बैंक को ऐसी तेजी चौथी तिमाही में आने की उम्मीद है। एसबीआई की चेयरपर्सन अरंधति भट्टाचार्य ने कल यहां कहा कि यद्यपि वाणिज्यिक परिपत्रों में दरें कम हैं, लेकिन इनके अनुरूप बैंकों की दरो में कटौती तभी हो सकती हैं जब रिण का उठाव बेहतर होगा। ‘यदि हम वाणिज्यिक पत्र बाजार के मोर्चे पर प्रतिस्पर्धा करने जा रहे हैं तो हमें आधार दर एक प्रतिशत से अधिक कम करनी होंगी जो कि ऋण उठाव की मौजूदा गति को देखते हुए संभव नहीं दिखता।’ 

भट्टाचार्य ने कहा, ‘मुझे चौथी तिमाही से ऋण उठाव में सुधार की उम्मीद दिखाई देती है।’ वर्तमान में कंपनियों वाणिज्यिक प्रपत्रों के जरिये धन जुटाने की और ज्यादा आकर्षित हैं। क्योंकि इनमें बैंकों के मुकाबले एक से दो प्रतिशत तक कम दर पर ब्याज लगता है। रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने इससे पहले कहा था कि मुद्रा बाजार में निम्न दरों के क्षेत्र में बढ़ती प्रतिस्पर्धा से बैंकों को कर्ज दरों में कमी करने पर मजबूर होना पड़ेगा। 

एसबीआई की चेयरपर्सन अरंधति भट्टाचार्य ने स्पष्ट कहा की बैंक दरो में कटौती तभी संभव है जब ऋण का उठाव और बेहतर होगा. रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने इससे पहले कहा था कि मुद्रा बाजार में निम्न दरों के क्षेत्र में बढ़ती प्रतिस्पर्धा से बैंकों को कर्ज दरों में कमी करने पर मजबूर होना पड़ेगा।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -