पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के लिए चीन प्रमुख सुधार लाएगा

बीजिंग: चीन ने राज्य मीडिया को सूचना दी की वो अपनी सेना की संरचना करने के लिए सुधारों की व्यापक पहल कर रहा है.  पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) पर सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के नियंत्रण बढ़ाने का इरादा चीन रखता है. चीन के सशस्त्र बल लंबे अक्षमता और भ्रष्टाचार से ग्रस्त हो गया है. बीजिंग, पूर्व और दक्षिण चीन सागर में द्वीपों पर जापान और फिलीपींस सहित पड़ोसी देशों के साथ क्षेत्रीय विवाद में अधिक मुखर रुख को अपनाने वाला है. 

मुख्यभूमि चीनी नेता शी जिनपिंग के व्यापक प्रचार-प्रसार के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान जो आलोचकों का कहना है गुटीय कलह के लिए इस्तेमाल किया गया है. शी, 200 से अधिक वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों और सैन्य अधिकारियों की तीन दिन की बैठक में कहा था. "सेना के परम नेतृत्व और आदेश शक्ति, पार्टी और केंद्रीय सैन्य आयोग (सीएमसी) के तहत बेहतर केंद्रीकृत होना चाहिए.'

पीएलए तकनीकी रूप से सीसीपी के बजाय मुख्य भूमि चीन की सशस्त्र शाखा है. और सिन्हुआ समाचार एजेंसी को शी ने कहा, 'पार्टी के नेतृत्व में सेना को मजबूत करने के लिए हमने महेनत की. सेना के चार शक्तिशाली मुख्यालय - जनरल स्टाफ, राजनीतिक, रसद और आयुध - सीएमसी के तहत "पुनर्गठित" हो जाएगा.

शुक्रवार को बीजिंग में मुख्य भूमि की रक्षा एजेंसी ने कहा की मुख्य भूमि की रक्षा नीति प्रकृति में रक्षात्मक ही रहेगी. "चीनी सशस्त्र बलों के हमेशा के लिए दुनिया में शांति और क्षेत्रीय स्थिरता की रक्षा करने के लिए एक कट्टर बल होगा," समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने एजेंसी के प्रवक्ता यांग यूजन की बात दोहराई. 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -