सूचना आयुक्त की दौड़ से बीएस बस्सी हुए बाहर

Feb 19 2016 03:05 PM
सूचना आयुक्त की दौड़ से बीएस बस्सी हुए बाहर

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बीएस बस्सी को लेकर एक जानकारी सामने आई है कि पुलिस विभाग से सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हें सूचना आयुक्त बनाया जाना था लेकिन अब उनका नाम इस पद के पैनल से ही हटा दिया गया है। माना जा रहा है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हुए हंगामे के चलते उनका नाम इस पद पर आसीन किए जाने वाले संभावित लोगों में से हटा लिया गया है।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस के कमिश्नर ने पटियाला हाउस कोर्ट में हुए हंगामे के दौरान छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की पिटाई से इंकार किया था। उनका यह भी कहना था कि कन्हैया के साथ धक्का - मुक्की हुई थी जिसमें उनकी एक च्प्पल खो गई थी। जेएनयू मामले में पहले ही कन्हैया पर आरोप लगाने और फिर उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत न होने या फिर संशय की स्थिति रखने को लेकर दिल्ली पुलिस की आलोचना हो चुकी है ऐसे में कमिश्नर बीएस बस्सी के नाम को लेकर सवाल उठने लगे हैं।

इस मामले में पूर्व सूचना आयुक्त शैलेष गांधी ने बस्सी को सूचना आयुक्त बनाए जाने पर सवाल किए हैं। उन्होंने इस मामले में कैबिनेट सचिव पीकी सिन्हा को पत्र लिखा और कहा कि उन्हें बतौर सूचना आयुक्त नियुक्त किया जाना मजाक है। शैलेष गांधी का यह भी तर्क था कि जिस उद्देश्य से सूचना का अधिकार कानून लाया गया था। सूचना आयुक्त की नियुक्ति की प्रक्रिया पारदर्शी की जाने की बात कही गई थी।