बहुत चाहेंगे मगर भुला न सकेंगे

बहुत चाहेंगे मगर भुला न सकेंगे

बहुत चाहेंगे मगर भुला न सकेंगे

ख्यालो में किसी और को ला ना सकेंगे

किसी को देखकर आसु तो पोछ लेंगे हम

मगर कभी भी आपके बिना मुस्कुरा ना सकेंगे

मेरे गीत को जो सुन लेगा

तुझको जान ही लेगा

हमारी महफ़िल में मत आना

तुझको पहचान लेगा

तेरी सूरत दिखती है

मेरे लफ्जो में

ज़माने की ना सुनना

वो तेरा ही नाम लेगा