लीजिये पृथ्वी पर सफ़ेद चादर से ढके पहाड़ो का नज़ारा "यमथांग वैली"


यदि आप चाहते है कि इस बार कि छुट्टियाँ एक बेहद रोमांचक और दिलचस्प यात्रा में तब्दील हो तो इस जगह पर जरूर जाइये अपनी फ़ैमिली के साथ. प्रकृति के सभी रंगो से सराबोर एक बर्फीली घाटी जिसे यमथांग घाटी - "फूलों कि घाटी" के नाम से जाना जाता है. 

वैसे तो यह घाटी गंगटोक सिटी से 125 किमी दूर है पर यहाँ पर जाने के लिए पहले परमिट बनवाना जरुरी होता है और अपनी इस रोमांचक यात्रा के रास्ते में आपको संकरी सड़कों के सफर के साथ कई फ़ीट ग़हरी खाई और टिस्टा नदी भी देखने को मिलती है.

यहाँ पर आपको बर्फ से आच्छादित पहाड़ियों का नज़ारा,बुरांश के फूलों की घाटी,जीरो पॉइंट (जहाँ पुरे साल बर्फ जमा रहती है) जैसी मनमोहक जगहों का लुत्फ़ उठाने का मौका मिलेगा जो आपको विदेश यात्रा से ज्यादा सुखद और मनोरंजनकारी पल देंगे. यहाँ कि जमीन पर हरी-हरी घास,याक्स को चरते देखना,कल-कल करती नदी का वो नीला पानी बेहद सुन्दर दृश्य देता है . 

 

यमथांग वैली जाने का सबसे उपयुक्त समय फरवरी अंत से जून तक होता है. इस समय आपको यहाँ पर खिले हुए सुन्दर फूल भी देखने को मिल जायेंगे.आप भी इनमे से किसी एक महीने में यमथांग वैली घूमने जा सकते हैं.

 

तो इस वजह से विदेश यात्रा के लिए नहीं बन पाता योग

एक बार जरूर घूमिये भारत के मिनी स्विट्ज़रलैंड ''हर्षिल''

गंगोत्री के दर्शन के साथ लुत्फ़ लीजिये इन जगहों का

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -