Share:
टैटू कैसे हटाये !!
टैटू कैसे हटाये !!

खूबसूरत टैटू को युवा के बार अपने हाथ पैर , पीठ , कमर आदि पर गुदवाते है | पर एक वक़्त के बाद वही टैटू एवं डिज़ाइन पुरानी लगने लगती है , और चाह कर भी हम उस तत्तो के साथ सहज महसूस नही करते है | ऐसे में हम क्या करे कैसे इस समस्या का समाधान करे आइये हम आपको बताते है |

जाने टैटू कैसे हटाये- 

क्रीम की मद्दत से -
 बाज़ार में टैटू हटाने वाली कई क्रीम्स उपलब्ध हैं। टैटू रिमूवल क्रीम से कुछ क्रीम्स बिना किसी दर्द या पीड़ा के आपके शरीर का टैटू निकाल सकती हैं। अगर आपका टैटू काफी पुराना है, तब ऐसी स्थिति में आपको अपना टैटू हटाने के लिए काफी लंबा इंतज़ार करना पड़ेगा।

इंटेंस पल्स्ड लाइट थेरेपी- 
शरीर से टैटू निकालने की ये पद्दति बिलकुल लेज़र सर्जरी की तरह होती है। इनमें फर्क सिर्फ इतना होता है कि इस पद्दति में लेज़र की जगह हाई इंटेंसिटी की लाइट का प्रयोग किया जाता है। इस प्रक्रिया से टैटू की स्याही को छोटे छोटे भागों में बाँट दिया जाता है। रौशनी को एक प्रिज्म की सहायता से टैटू की तरफ घुमाया जाता है। इस प्रिज्म को इसके बाद त्वचा पर रखा जाता है, जिससे कि टैटू के विभिन्न रंग उत्पन्न होते हैं और हर रंग टैटू के दूसरे रंग को निशाना बनाते हैं। इसके बाद रौशनी स्याही को पूरी तरह तोड़ देती है और फिर ये सारे रंग उस व्यक्ति के शरीर द्वारा सोख लिए जाते हैं जो अपना टैटू हटवाना चाहता है।

कोजिक एसिड की मद्दत से - 
यह एसिड त्वचा को गोरा करने वाली कई क्रीमों में ऐसे तत्व की तरह इस्तेमाल किया जाता है जो रंजकता दूर करने में(De-Pigmentation)मदद करता है। इसका प्रयोग एक एंटी ऑक्सीडेंट तथा एमोलिएंट के रूप में भी किया जा सकता है। इसका प्रयोग ऐसी क्रीमों के निर्माण में भी किया जाता है जो टैटू हटाने में मदद करती हैं।

अल्फा अर्बुटिन की मद्दत से - 
यह ऐसा केमिकल है जो ना सिर्फ पानी में घुलता है, बल्कि टैटू हटाने में भी मदद करता है। इसका प्रयोग असल में रंग गोरा करने के लिए किया जाता है। इसका प्रयोग सूरज की अल्ट्रा वायलेट किरणों के संपर्क में आने के फलस्वरूप हुई टैनिंग को दूर करने तथा उम्र के दागों को हल्का करने के लिए किया जाता है।

TCA पील्स की मद्दत से - 
ट्राईक्लोरोएसिटिक एसिड ही ऐसी एक विधि है जो आपके टैटू को हटाने में केमिकल रूप से सक्षम है। इस प्रक्रिया के दौरान आपको कुछ दर्द और एक प्रकार की चुभन का अनुभव होगा। इसके बाद त्वचा को पत्तियों से बाँध दिया जाता है और एक पपड़ी(Scab)उभर आती है। इस पपड़ी के पूरी तरह ठीक हो जाने तक पट्टियों को ना उतारें। लेकिन अगर एक हफ्ते के बाद भी त्वचा की पपड़ी में नमी रहती है तो इसपर बेटाडीन नामक दवाई लगाएं और दोबारा से पट्टी बांधें जिससे कि चमड़ी फिर से अच्छे से सूख जाए।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -