BoAt के 75 लाख यूजर्स खतरे में हैं! डार्क वेब पर पर्सनल डेटा लीक की रिपोर्ट
BoAt के 75 लाख यूजर्स खतरे में हैं! डार्क वेब पर पर्सनल डेटा लीक की रिपोर्ट
Share:

एक महत्वपूर्ण रहस्योद्घाटन में, यह पता चला है कि अपने ऑडियो उत्पादों और स्मार्टवॉच के लिए जानी जाने वाली कंपनी boAt Lifestyle को बड़े पैमाने पर डेटा उल्लंघन का सामना करना पड़ा है, जिससे 7.5 मिलियन ग्राहक प्रभावित हुए हैं। लीक हुए डेटा में उपयोगकर्ताओं के नाम, संपर्क नंबर, ईमेल आईडी और ग्राहक आईडी जैसी संवेदनशील व्यक्तिगत जानकारी शामिल है। इससे भी अधिक चिंताजनक बात यह है कि इस लीक की ज़िम्मेदारी ShopifyGuy नाम के एक हैकर की है, जिसने चुराए गए डेटा को डार्क वेब पर उपलब्ध कराया है।

फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, लीक हुए 2GB डेटा के साथ पहले ही छेड़छाड़ की जा चुकी है, जिससे भविष्य में संभावित नुकसान की चिंता बढ़ गई है। विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि जिन लोगों के डेटा से छेड़छाड़ की गई है, उनमें धोखाधड़ी, फ़िशिंग घोटाले और पहचान की चोरी का खतरा अधिक है। उपयोगकर्ताओं की जानकारी तक पहुंच के साथ, हैकर्स बैंक खातों, ओटीपी और क्रेडिट कार्ड के माध्यम से महत्वपूर्ण धोखाधड़ी को अंजाम दे सकते हैं। यह उल्लंघन धोखाधड़ी वाली कॉल और संदेशों के लिए रास्ते खोलता है, समझौता की गई व्यक्तिगत जानकारी का शोषण करता है।

वित्तीय धोखाधड़ी का बढ़ता जोखिम

फिलहाल boAt Lifestyle ने इस घटना को लेकर कोई बयान जारी नहीं किया है. साइबर सुरक्षा शोधकर्ता सौम्या श्रीवास्तव ने बताया कि इस डेटा लीक के कारण वित्तीय धोखाधड़ी और फ़िशिंग हमलों का खतरा काफी बढ़ गया है। चुराए गए डेटा के साथ, हैकर्स बैंक खातों तक पहुंच सकते हैं और उपयोगकर्ता की जानकारी या सहमति के बिना धोखाधड़ी कर सकते हैं।

लीक के पीछे संभावित उद्देश्य

नेटेनरिच के वरिष्ठ खतरा विश्लेषक, राकेश कृष्णन का सुझाव है कि हैकर ने संभवतः डार्क वेब पर जारी होने से पहले डेटा तक पहुंच बनाई है। इस लीक के पीछे का मकसद साइबर क्राइम समुदाय के भीतर पहचान स्थापित करना हो सकता है। दिलचस्प बात यह है कि डेटा लीक करने वाले हैकर की प्रोफाइल अपेक्षाकृत नई है, जिससे पता चलता है कि लीक एक नए उपनाम के तहत कुख्याति हासिल करने का प्रयास हो सकता है। boAt लाइफस्टाइल में उल्लंघन आज के डिजिटल परिदृश्य में मजबूत साइबर सुरक्षा उपायों की महत्वपूर्ण आवश्यकता को रेखांकित करता है। चूंकि कंपनियां बड़ी मात्रा में व्यक्तिगत डेटा एकत्र और संग्रहीत करती हैं, इसलिए साइबर खतरों के खिलाफ सुरक्षा सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी उन पर है। इसके अतिरिक्त, उपयोगकर्ताओं को सतर्क रहना चाहिए और अपनी व्यक्तिगत जानकारी को गलत हाथों में जाने से बचाने के लिए आवश्यक सावधानी बरतनी चाहिए।

उबाऊ दैनिक जीवन से ब्रेक लेना चाहते हैं? देश में इन जगहों से रोमांच का लें आनंद

केरल की सबसे खूबसूरत जगहों में से है वागामोन, जानिए कैसे पहुंचे यहां

सोलो ट्रिप के लिए बेस्ट हैं ये जगहें, आज ही बना लें प्लान, खर्च कम होगा।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -