जिंदगी उसी की

जिंदगी उसी की

िंदगी उसी की
जो इसको जीना जानता हो
उड़ान भी ऊँची उसी की
जो पंख फैलाना जानता हो
खुशियां भी उसी के हिस्से
जो ख़ुशी बांटना जानता हो
रौशनी उसी के हिस्से
जो अंधेरों की कसक जानता हो
मुस्कान भी उसी के अधरों पर
जो मुस्कान देना जानता हो
रहमते उसी पे बरसती
जो दामन भरना जानता हो
मरहम भी उसी के लिए
जो जख्म सीना जानता हो
आशा भी उसी के हिस्से
जो निराशा से उबरना जानता हो
रिश्ते भी उसी के हिस्से
जो रिश्ते निभाना जानता हो