यूं तो हमेशा से परेशान-सी थी

ार दिन की ये रफ़ाक़त जो रफ़ाक़त भी नहीं,
उम्र भर के लिए आज़ार हुई जाती है,
ज़िन्दगी यूं तो हमेशा से परेशान-सी थी,
अब तो हर साँस गिराँबार हुई जाती है |

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -