आपकी सोंच ही बनाती है आपको धनवान

अक्सर हम देखते हैं की हम जितना हम अच्छा सोंचते हैं उतना ही हमारे साथ बुरा होता है फिर आपको ऐसा लगता है की आपकी किस्मत ही खराब है. आप किसी भी काम को करने की सोंचते है और यह सोंचते है की ऐसा होने पर मेरे साथ या फिर मेरे परिवार के साथ अच्छा होगा लेकिन ऐसा नहीं हो पाता है आपको क्या लगता है? की आखिर में चीजें आपके मन मुताबिक क्यों नहीं हो पाती हैं। अगर आप भी इस कारण का पता लगाना चाहते है तो आज हम आपके सामने एक ऐसा ही विषय लेकर आये है जिसकेे माध्यम से आप भी यह पता कर सकते है, आखिर में आपके साथ ऐसा क्यों हो रहा है। 

अब तक आपने यह तो सुना ही होगा की मनुष्य जैसा सोंचता है वैसा ही बन जाता है। यह हमारी सोच ही होती है जो हमारे व्यक्तित्व का निर्माण करती है। हमारी सोचने की क्षमता ही हमें अमीर और धनवान बनाती है। यदि हम हमेशा पॉजिटिव और बेहतर सोच सकते हैं तो हमें अमीर बनने से कोई नहीं रोक सकता। हमारी सोच ही हमें राजा से रंक और रंक से राजा बना सकती है।

इस बात पर शायद आपको विश्वास न होता होगा लेकिन आपको बतादें की यह बात हम नहीं बल्कि विज्ञान कहता है। दरअसल एक शोध में साबित हुआ है कि केवल इंसान की सोच ही उसे अमीर बनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इंसान की सोच ही उसे खुद कि शख्सियत से आगे बढ़कर सोचने की आजादी देती है। हम यहां जिस शोध की हम बात कर रहे हैं वह भी एक अमीर शख्स ने ही किया है। गरीबी और अमीरी के सोच का अंतर दोनों कि सोच में है। 

अमीर व्यक्ति के लिए दुनिया में सबसे बड़ी बुराई गरीबी होती है जबकि एक आम आदमी या फिर एक गरीब व्यक्ति के लिए पैसा ही दुनिया में बुराईयों की जड़ है। औसत आदमी सोचता है कि अमीर आदमी कि‍स्मत के भरोसे या बेईमान से अमीर बनते हैं। अमीर आदमी से पूछा जाए कि स्वार्थ क्या है तो वह इसे एक विशेषता बताएगा। क्योंकि स्वार्थ के बिना हम अपने लक्ष्य पर केन्द्रित नहीं रह सकते हैं। इसके विपरीत आम आदमी स्वार्थ को अधर्म मानता है। अमीर और गरीब में दूसरा सबसे बड़ा फर्क दूरदर्शिता का होता है।

जो लोग यह सोचते हैं कि‍ उनके अच्छे दि‍न खत्म हो चुके हैं वह कभी भी अमीर नहीं बन पाते। इसके विपरित जो लोग खुद पर भरोसा करते हैं और परिस्थितियों से लड़ते रहते हैं वो एक दिन जरूर अमीर बनते हैं। ऐसे लोग अपने सपनों लक्ष्य और आइडि‍या से नए-नए एक्सपेरिमेंट्स करते-करते एक दिन सफल हो ही जाते हैं। एक अमीर आदमी के लिए उसका काम ही सब कुछ होता है। उसे काम का पैशन होता है जो उसे अमीर बनाता है। एक अमीर व्यक्ति का फोकस हर वक्त अपने काम पर होता है। लेकिन एक आम आदमी कमाई से अधिक बचत के बारे में सोचता है।

प्रद्युमन की हत्या के बाद, देश पर मंडरा रहा सबसे बड़ा सवाल

नवरात्री के दिनों में कुछ ऐसे ही लोग मिलते हैं हमे

रावण - मेघनाद के पुतलों के दहन पर, आदिवासियों का विरोध

इस नवरात्रि जाने ये 12 माता मंदिरों की विशेषता

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -